Profile cover photo
Profile photo
Dharam Singh
58 followers
58 followers
About
Dharam's posts

Post has attachment

Post has shared content
'तुंगलों का मुल्क'
खास पट्टी पैली ' तुंगलों का मुल्क ' का नाम सी विख्यात थें। त वैका बारा मा मेरी या रचना। …… तुंगलों का मुलुक मेरा तुंगला हर्ची ग्येन, पुंगडा पाटला , गोरु बाखरा मनखि  भी नि रैन। कूड़ों की पठाली भि अब कूड़ों मा नि रैन तुंगलों का मुलुक मेरा तुंगला हर्ची ग्येन।  य...

Post has attachment
मेरु परदेशी लाटू ..
आज कुजाणि कख बटीं   देखि होलु घरो कु बाटू मिन त सोची बिशरी गी   होलु मेरु लाटू। पुंगड़ी - पाटलि   त बांजा पड़िगेन चौक उर्ख्याला   कुड़ी खंद्वार व्हैगेन अब क्या कल्ली तू मेरा लाटू। आज   कुजाणि   कख   बटीं   देखि   होलु   घरो   कु   बाटू मिन त सोची   बिशरी गी   ...

Post has attachment

Post has attachment
'तुंगलों का मुल्क'
खास पट्टी पैली ' तुंगलों का मुल्क ' का नाम सी विख्यात थें। त वैका बारा मा मेरी या रचना। …… तुंगलों का मुलुक मेरा तुंगला हर्ची ग्येन, पुंगडा पाटला , गोरु बाखरा मनखि  भी नि रैन। कूड़ों की पठाली भि अब कूड़ों मा नि रैन तुंगलों का मुलुक मेरा तुंगला हर्ची ग्येन।  य...

Post has attachment
उ बचपन का दिन। …
कभी गारा गिट्टा खेली कभी थुचा खेली। बचपन का दिन मेरा जैन ठेली - ठेली। दगड़ा का नोना सभी स्कूल ग येन मेरी झोली माँ वेन पाटी कलम नी डाली। बचपन का दिन मेरा जैन ठेली - ठेली। बरखा का धिड़ा हो या तड़ - तड़ा घाम , सेरा पुंगड़्यौं माँ मैन कई रीतू  झेलीं बचपन का दिन मेरा...

Post has attachment
ये फेस बुक पर ....
सबी धाणी होणु   छा ये फेस बुक पर ……........................ । ज्येठ मैना काफुल खाणा हिषर , किन्गोड़ का झोंम्पा लग्याँन रूड्यों का घामु माँ ये फेस बुक पर ……........................ । असाढ़ का मैना   रोपणी लगणी छन क्वी क़दवाळ , क्वी मैय्या   लगाणु गाऊँ की चाची ,...

Post has attachment

Post has attachment
**
आज फिर एक नयुं प्रयास  बड़ा दिनु बाद आज कुछ लिखणो कु मन छ  कन्नू।  पर क्या लिखौं  आज द्वी तीन साल व्हेगेँ जबरी बटीं कलम हाथ माँ नि  उठे।  जिंदगी माँ उथल पुथल त  मचिन ही रेंदी पर यखत चपट्ट व्हयीं छः।  बड़ी अफशोस  की बात छ  की पारिवारिक जीवन माँ यथा व्यस्त व्हे...

Post has attachment
Dharam Singh commented on a post on Blogger.
bahut khusi hoti hai dev bhai aap ke prayas ko dekh kar 4-5 saal ho gaye aap se mile hue  aapke blog or fb ke madhyam se aap ke prayaso or uplabdhiyon se barabar roo baroo hota rahata hun maine bhi ek choti se kosis ki thi par samaya ke abhau ke karan ruk sa gaya hun  agar hum se bhi  kuch  ho  paya to jaroo aap se  mukhatib honge 
http://bhalugarhwal.blogspot.co.uk/
Wait while more posts are being loaded