Profile cover photo
Profile photo
VINAY JAISWAL
16 followers
16 followers
About
Posts

Post has attachment
लो भैया, हम यूपी आ गए हैं
जब मैं 2008 में गाजियाबाद के कौशांबी में रहने आया था तो यहाँ ईस्ट
दिल्ली मॉल और पैसिफिक दो माल खुल चुके थे। मेट्रो की सुविधा नहीं थी , हमें मेट्रो के लिए दिलशाद गार्डेन जाना पड़ता था। खैर कुछ दिन
बाद द्वारका जाने वाली लाइन का विस्तार हुआ , मेट्रो आनंद विहार
...

Post has attachment
कहानी कहने के दौर फिल्में हैं हाइवे और क्वीन
हाल ही में दो फिल्में देखीं। पहली
हाइवे और दूसरी क्वीन। दोनों फिल्में आज के दौर की फिल्में कही जा सकती हैं
क्योंकि इन दोनों फिल्मों में एक सीधी कहानी कहने की कोशिश की गयी है। ये दोनों ही
फिल्में आखिर में उस संदेश को बयां कर पाने सफल रहती हैं , जिस मंतव्य से...

Post has attachment
Photo

Post has attachment

Post has attachment
उम्मीद्वार और नुमाइंदगी का सवाल
इस देश में लोकसभा
चुनाव , अब राजनीतिक दलों की दुकान के रूप में खुलकर
सामने आ गया है। अब इस बात पर बहस बंद हो चुकी है कि कैसी सरकार चाहिए ? अब इस बात पर ज़ोर है कि किस ब्रांड की
सरकार बननी चाहिए , ठीक वैसे ही
जैसे बाज़ार
जनता की आवश्यकता से ज़्यादा , ब्रांड की
...

Post has attachment

Post has attachment
आम आदमी का खेल
आज तुम हमें प्रमोट करो और कल हम तुम्हें प्रमोट करेंगे पार्क
की तरफ लंबे अरसे बाद जाना हुआ। वहाँ देखा तो बच्चे एक नये तरह का खेल , खेल रहे थे। मैंने उत्सुकता वश पूछा , ~ बच्चा लोग ई कौन सा खेल चल रहा है ~ तो सबके सब मेरी तरफ आँखें तरेर कर
देखने लगे , ठीक वैस...
Wait while more posts are being loaded