Profile cover photo
Profile photo
smt. Ajit Gupta
1,614 followers
1,614 followers
About
Posts

Post has attachment
महिला की हँसी उसकी चूंदड़ जैसी
जब
भी किसी महिला को खिलखिलाकर हँसते देखती हूँ तो मन करता है, बस उसे देखती ही रहूँ।
बच्चे की पावन हँसी से भी ज्यादा आकर्षक लगती है मुझे किसी महिला की हँसी। क्योंकि
बच्चा तो मासूम है, उसके पास दर्द नहीं है, वह अपनी स्वाभाविक हँसी हँसता ही है लेकिन
महिला यदि ह...
Add a comment...

Post has attachment
झूठी शान से मुक्त होता पुरुष
कुछ
लोग अलग मिट्टी से बने होते हैं, उनकी एक छोटी सी सोच उन्हें सबसे अलग बना देती
है। कल केबीसी के सेट पर खिलाड़ी थी – अनुराधा,   लेकिन मैं आज बात अनुराधा की नहीं कर रही हूँ। मेरी बात का नायक है अनुराधा
का पति – दिनेश। कुछ लोग जीवन में एक उद्देश्य लेकर आगे ब...
Add a comment...

Post has attachment
ब्राह्मण की पोथी लुटी और बणिये का धन लुटा
हम
बनिये-ब्राह्मण उस सुन्दर लड़की की तरह हैं जिसे हर घर अपनी दुल्हन बनाना चाहता
है। पहले का जमाना याद कीजिए, सुन्दर राजकुमारियों के दरवाजे दो-दो बारातें खड़ी
हो जाती थी और तलवार के जोर पर ही फैसला होता था कि कौन दुल्हन को ले जाएगा? तभी
से तो तोरण मारने का र...
Add a comment...

Post has attachment
human values / nuisance values
#हिन्दी_ब्लागिंग विवेकानन्द
के पास क्या था? उनके पास थे मानवीय मूल्य। इन्हीं मानवीय मूल्यों ( human
vallues) के
आधार पर उन्होंने दुनिया को अपना बना लिया था। लेकिन एक होती है nuisance
value ( उपद्रव
मूल्य) जो अपराधियों के पास होती है, उस काल में डाकुओं के पा...
Add a comment...

Post has attachment
एक विपरीत बात
#हिन्दी_ब्लागिंग मुझे आज तक समझ नहीं आया कि – a2 + b2 = 2ab इसका
हमारे जीवन में क्या महत्व है? यह फार्मूला हमने रट लिया था, पता नहीं अब ठीक
से लिखा गया भी है या नहीं। बीजगणित हमारे जागतिक संसार में कभी काम नहीं आयी।
लेकिन खूब पढ़ी और मनोयोग से पढ़ी। ऐसी ही ...
Add a comment...

Post has attachment
बतंगड़ या समाधान
#हिन्दी_ब्लागिंग हम अपने-अपने सांचों में कैद हैं, हमारी सोच भी एक सांचे में बन्द है, उस सांचे को हम तोड़कर बाहर ही नहीं आना चाहते। कितना ही नुकसान हो जाए लेकिन हमारी सोच में परिवर्तन नहीं होता, कभी हमें पता भी होता है कि हम गलत तर्क के साथ खड़े हैं तब भी हम...
Add a comment...

Post has attachment
अब महिला के पक्ष में वोट बैंक आएगा
#हिन्दी_ब्लागिंग एक प्रसंग जो कभी भूलता नहीं और बार-बार उदाहरण बनकर कलम की पकड़ में आ जाता है। मेरी मित्र #sushmakumawat ने कामकाजी महिलाओं की एक कार्यशाला की, उसमें मुझे आमंत्रित किया। कार्यशाला में 100 मुस्लिम महिलाएं थी। मुझे वहाँ कुछ बोलना था, मैं समझ न...
Add a comment...

Post has attachment
हमें अपनी झील के आकर्षण में बंधे रहना है
#हिन्दी_ब्लागिंग मैं कहीं अटक गयी हूँ, मुझे जीवन का छोर दिखायी
नहीं दे रहा है। मैं उस पेड़ को निहार रही हूँ जहाँ पक्षी आ रहे हैं, बसेरा  बना रहे हैं। कहाँ से आ रहे हैं ये पक्षी? मन में
प्रश्न था। शायद ये कहीं दूर से आए हैं और इनने अपना ठिकाना कुछ दिनों के ल...
Add a comment...

Post has attachment
पहाड़ों के बीच बसा अलसीगढ़
#हिन्दी_ब्लागिंग मनुष्य प्रकृति की गोद खोजता है, नन्हा शिशु भी माँ की गोद खोजता है। शिशु को माँ की गोद में जीवन मिलता है, उसे अमृत मिलता है और मिलती है सुरक्षा। बस इंसान भी इसी खोज में आजीवन जुटा रहता है। बचपन छूट जाता है लेकिन जहाँ जीवन मिले, जहाँ अमृत मिल...
Add a comment...

Post has attachment
जीवन्त जीवन ही खिलखिलाता है
#हिन्दा_ब्लागिंग आधा-आधा जीवन जीते हैं हम, आधे-आधे विकसित होते हैं हम और आधे-आधे व्यक्तित्व को लेकर जिन्दगी गुजारते हैं हम। खिलौने का एक हिस्सा एक घर में बनता है और दूसरा हिस्सा दूसरे घर में। दोनों को जोड़ते हैं, तो ही पूरा खिलौना बनता है। यदि दोनों हिस्सों...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded