Profile cover photo
Profile photo
GK Hindi
2 followers -
सामान्य ज्ञान हिंदी में
सामान्य ज्ञान हिंदी में

2 followers
About
Posts

Post has attachment
Public
संवैधानिक विकास की शुरुआत ईस्ट इंडिया कम्पनी की स्थापना (1600 ई०) से माना जा सकता है। ईस्ट इंडिया कंपनी अंग्रेज व्यापारियों का एक समूह था। इसे ब्रिटिश सरकार ने भारत के साथ व्यापार करने का एकाधिकार प्रदान किया था। व्यापार की रक्षा के नाम पर यूरोपीय…
Add a comment...

Post has attachment
Public
बैंक एक ऐसी मध्यस्थ वित्तीय संस्था होतीहै,जो जमाकर्ताओं का जमा स्वीकार करता है तथा ऋण की मांग करने वालों को ऋण प्रदान करता है।  भारत में बैंकिंग प्रणाली: स्वामित्व के आधार पर दो प्रकार के बैंक होते हैं। लोक क्षेत्रक बैंक निजी क्षेत्रक बैंक लोक क्षेत्रक…
Add a comment...

Post has attachment
Public
भारतीय पत्रकारिता का विकास तथा राष्ट्रवाद के विकास में समाचार पत्रों की भूमिका: प्रेस को लोकतांत्रिक राज्य का चौथा स्तंभ माना जाता है जबकि साम्राज्यवादी शासन में यही प्रेस राष्ट्रीय मुक्ति का एक सशक्त माध्यम भी बन सकता है, जैसा कि भारत सहित दुनिया के कई…
Add a comment...

Post has attachment
Public
मुगल साम्राज्य का पतन: औरंगजेब की मृत्यु के बाद मुगल साम्राज्य तेजी से पतन की ओर बढ़ने लगा। इसका मुख्य कारण यह था कि औरंगजेब के बाद के लगभग सभी मुगल बादशाह अयोग्य थे। उत्तरकालीन मुगल बादशाह: बहादुर शाह प्रथम: 1707-1712 ई० जहांदार शाह: 1712-1713 ई०…
Add a comment...

Post has attachment
Public
मराठों के उदय के कारण: भारत के दक्षिण पश्चिम भाग का पठारी क्षेत्र ही आज का महाराष्ट्र है। ऊबड़-खाबड़ तथा कम उपजाऊ जमीन होने के कारण यहां के लोग बहुत मेहनती रहे हैं। यहां रैयतवाड़ी लगान व्यवस्था लागू थी जिसमें किसान किसी जमींदार के अधीन नहीं होता था। अतः…
Add a comment...

Post has attachment
Public
भारत में आर्थिक नियोजन भारत में आर्थिक नियोजन पूर्व सोवियत संघ से प्रेरित होकर अपनाया गया है. 15 मार्च 1950 को योजना आयोग की स्थापना की गयी. भारत में आर्थिक नियोजन सम्बन्धी पहला विचार एम. विश्वेश्वरैया ने अपनी पुस्तक ‘Planned Economy for India‘ के माध्यम…
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded