Profile cover photo
Profile photo
Gyan Darpan
7,857 followers
7,857 followers
About
Posts

Post has attachment
पूरे भारतवर्ष में जनश्रुति प्रचलित है कि सम्राट पृथ्वीराज के खिलाफ युद्ध के लिए गौरी को कन्नौज नरेश जयचंद गहड़वाल ने बुलाया था| लेकिन हम जब भी कोई इतिहास पढ़ते है तो पाते है कि गौरी को जयचंद द्वारा बुलाने की बात कहीं भी लिखी नहीं पाते| इसी मुद्दे पर…
Add a comment...

Post has attachment
Rajput Matrimony, Rajput Rishte, Rajput Matrimonial Sercive : प्राचीनकाल से ही हमारे देश में वैवाहिक रिश्ते तय कराने में निकटतम रिश्तेदारों की महत्त्वपूर्ण रही है। आज भी समाज के हर व्यक्ति की चाहत है कि उसे अपने बच्चों के जीवन साथी निकट रिश्तेदारी में मिल…
Add a comment...

Post has attachment
इसे विडम्बना ही कहेंगे कि सदियों तक शासन कर  देश का नेतृत्व करने वाला क्षत्रिय समाज आज हर राजनैतिक दल में दोयम दर्जे पर है| आप किसी भी राजनैतिक दल के दूसरे महत्त्वपूर्ण बड़े पद पर राजपूत नेता के होने, कई प्रदेशों के मुख्यमंत्री, मंत्री होने की संख्या को…
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
हजारों साल देश की राजनीति में दखल रखकर राज करने वाली क्षत्रिय जाति, जिसका सदियों राज करने के कारण नाम भी राजपूत पड़ा, 1947 में सत्ता हस्तांतरण के बाद 71 वर्ष बाद भी राजनैतिक रूप से दोराहे पर खड़ी है। अब प्रश्न उठता है कि इतने वर्षों बाद भी राजपूत जाति वोट…
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
इस देश में मुस्लिम आक्रान्ताओं के साथ जितने युद्ध राजपूतों ने लड़े उतने शायद दुनिया की किसी जाति ने नहीं लड़े| मुस्लिम बादशाहों के आक्रमणों का सबसे ज्यादा सामना लम्बे समय तक राजपूतों को करना पड़ा| इन युद्धों में राजपूतों ने एक से बढ़कर एक बलिदान दिए| जौहर और…
Add a comment...

Post has attachment
सोशियल मीडिया का दुरूपयोग  : इन्टरनेट सेवा के प्रसार के बाद आपसी मेल-जोल बढाने के लिए ऑरकुट व फेसबुक जैसे वेब साइट्स बनी, जिनका मुख्य उद्देश्य लोगों को आपसी मित्रता बढाकर लोगों में दूरियां कम करने के लिए एक प्लेटफ़ॉर्म उपलब्ध कराना था| शुरू में लोग इन वेब…
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
स्व.आयुवानसिंह जी ने अपनी पुस्तक राजपूत और भविष्य में भविष्यवाणी की थी कि – “भावी युग श्रमजीवी जातियों के अभ्युत्थान का युग होगा। भारत में अब तक श्रमजीवियों की उन्नति का रूप सामूहिक न होकर व्यक्तिक ही हुआ है। शूद्रों में जो व्यक्ति महान और उच्च होते थे…
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded