Profile cover photo
Profile photo
Sanjay Grover (संजय ग्रोवर)
1,387 followers -
बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे
बाज़ीचा-ए-अत्फ़ाल है दुनिया मेरे आगे

1,387 followers
About
Sanjay Grover (संजय ग्रोवर)'s posts

Post has attachment
दुनिया को नई नज़र से देखो, प्यारेलाल
" भगवान नही है चलो मान भी लिया जाये और ये भी मान लिया जाये की सृष्टि की रचना अपने आप हो गयी तो हर चीज का जोड़ा कैसे बना ? पशु - पक्षी बने और उनके भी जोड़े बने फिर नस्ल आगे बढ़ने के लिये भी इंतेज़ाम हो गया ? पेड़ पौधे चन्द सूरज और तारे सब के सब अपने आप बन गय...

Post has attachment
अवसरानुकूल
लघुव्यंग्य भीड़-भरी बस में चढ़ते हुए  लोग - ‘पहले चढ़ने दो भई, जानते नहीं चढ़ना कितना ज़रुरी है !?’ भीड़-भरी बस से उतरते हुए लोग- ‘पहले उतरने दो भई, हम उतरेंगे नही तो आप चढ़ोगे कैसे !?’ -संजय ग्रोवर 22-07-2017

Post has attachment
सिद्धू को देखता हूं
व्यंग्य मैं सिद्धू को देखता हूं। पता नहीं वे कॉमेडी शो की वजह से ऐसे हैं या कॉमेडी शो उनकी वजह से ऐसे हो गए हैं! आजकल कॉमेडी शो में लोग हंसने के बजाय तालियां बजाने लगे हैं। हो सकता है हंसीं की शॉर्टेज हो, हो सकता है हंसने से थकान होती हो, गला दुखता हो ; और ...

Post has attachment
इसको लगवा लीजिए, इसमें....
अब हटवा दिया.....गीता में लिखा है जो हुआ अच्छा हुआ....
यह आपने बहुत अच्छी बात कही सर....
यह मैंने नहीं कही, गीता में से निकाली है....यहां के नये लोगों को भी पुरानी बातें जल्दी समझ में आती हैं इसलिए.....

Post has attachment
फ़ालतू
नया हास्य                                                                                                                                                                                           एक दिन पड़ोसियों का प्रतिनिधिमंडल मुझसे मिलने आया, आ ही गया।  ...

Post has attachment
अफ़वाह की डगर पे...
पैरोडी अफ़वाह की डगर पे चमचों दिखाओ चलके हरदेस है तुम्हारा, डब्बे तुम्ही हो कल के अपने हों या पराए, किसको नज़र है आए ये ज़िंदगी है अभिनय, करना भी क्या है न्याय रस्ते लगेंगे भारी, तुम हो ही इतने हलके अफ़वाह की डगर पे..... (शेष थोड़ी देर में) -संजय ग्रोवर 14-07-2017

Post has attachment
भारतीय ‘प्रगतिशीलों’ का पसंदीदा संगठन आर एस एस एस-3
भारतीय ‘प्रगतिशीलों’ का पसंदीदा संगठन आर एस एस एस-2 मुझे इस बात पर न तो कोई गर्व है न शर्म कि आर एस एस एस से मेरा कभी कोई किसी भी तरह का संबंध नहीं रहा। और मेरे लिए यह बात भी किसी झटके की तरह नहीं है कि कभी मेरे प्रिय रहे ऐंकर/न्यूज़रीडर विनोद दुआ का बचपन मे...

Post has attachment
भीड़ और भगवान-1
एक प्रसिद्ध व्यक्ति ट्वीट करता है कि एक सरकारी संस्था ने मुझसे पांच लाख रुपए रिश्वत मांगी है। कोई पत्रकार उससे नहीं पूछता कि यह रिश्वत किस वजह से मांगी गई है !? वह रिश्वत मांगनेवाले का नाम नहीं बताता।  वही टीवी चैनल बताते हैं कि यह व्यक्ति ख़ुद भी रेज़ीडेंशि...

Post has attachment
मेरे साथ कौन जाएगा ?
04-07-2017 मेरे पीछे का फ़्लैट(134-ए, पॉकेट-ए, दिलशाद गार्डन, दिल्ली) जो कई सालों से खाली पड़ा था, कुछ दिन पहले बिक गया है। कई दिनों से वहां से खटर-पटर, धूम-धड़ाम की आवाज़ें आ रहीं हैं। आज मैंने पिछले कई साल से बंद पड़ा अपने पिछले कोर्टयार्ड का दरवाज़ा खोला जो गं...

Post has attachment
जय हो
इस फ़िल्म के बारे में आवश्यक जानकारियां आप इन दो लिंक्स् पर क्लिक करके देख सकते हैं -   1, IMDb   2. Wikipedia एक कोई लड़की है। कुछ गुण्डे हैं। उनके पास अच्छी, बड़ी-बड़ी गाड़ियां हैं। वे लड़की को उन्हीं गाड़ियों में उठा ले जाना चाहते हैं। वह जाना नहीं चाहती। जय फ़ि...
Wait while more posts are being loaded