Profile cover photo
Profile photo
Hindi Shayari - हिंदी शायरी
285 followers -
मौहब्बत तन्हाई और मैं...
मौहब्बत तन्हाई और मैं...

285 followers
About
Hindi Shayari - हिंदी शायरी's interests
Hindi Shayari - हिंदी शायरी's posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
ना कर तू इतनी कोशिशे, 
मेरे दर्द को समझने की, 
पहले इश्क़ कर, 
फिर चोट खा, 
फिर लिख दवा मेरे दर्द की।

Post has attachment
तेरी जरूरत, तेरा इंतजार और ये तन्हा आलम, 
थक कर मुस्कुरा देते हैं, हम जब रो नहीं पाते।
Photo

फिर इश्क़ का जूनून चढ़ रहा है सिर पे, 
मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे।

इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना, 
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।

मर्जी से जीने की बस ख्वाहिश की थी मैंने, 
और वो कहते हैं कि खुदगर्ज बन गये हो तुम।

सिसकियाँ लेता है वजूद मेरा गालिब,
नोंच नोंच कर खा गई तेरी याद मुझे।

Post has attachment
काश... एक ख्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, 
वो आकर गले लगा ले, मेरी इजाजत के बगैर।

मयखाने से पूछा आज इतना सन्नाटा क्यों है, 
बोला साहब लहू का दौर है शराब कौन पीता है।
Wait while more posts are being loaded