Profile cover photo
Profile photo
Sushant shankar
About
Posts

Post has attachment
**
हे बापू हम आये है यहाँ फिर एक बार तुम्हे वापस वतन ले जाने
को निकलो अब इस मूरत से और चलो हमारे साथ आज हिसां की आग में लिपटा मेरा वतन   तुम्हारी अहिंसा को भूल बैठा है कॉर्पोरेट में जीता वतन तुम्हारे ग्राम स्वराज को भूल बैठा हैं आओ अब लौट चलें हिंसा पर अहिंसा ...
Add a comment...

Post has attachment
**
इस मौसम की धुंध में मैं तुम्हे साफ़ देख पा रहा हूँ  पहले से भी ज्यादा साफ़  और ये हवाएं जो तुम्हारे आंगन से दौड़ती चली आ रही है  मेरे कानों में जो कह रही हैं उसमें मैं तुम्हे महसूस कर सकता हूँ अब तुम आओ या न आओ मै यहीं ठहरे तुम्हारा इंतज़ार करूँगा ...ताउम्र
Add a comment...

Post has attachment
कलम मरती है तो बहुत कुछ मर जाता है
बांध
दिए जाने और ख़त्म हो जाने की बीच से जाने वाली संकरी
गलियों में वो जूझता रहा शब्दों
के तहखाने से बहुत दूर निकल चुका वापसी
में अपने ही पदचिन्हों को ढूंडने की नाकाम कोशिश करता    बहुत
कुछ पाने की चाहत में उसने जो
बचाया था वो भी ख़त्म कर दिया और अब अपनी
ही ब...
Add a comment...

Post has attachment
मैं लौट जाऊंगा - उदय प्रकाश
मैं लौट जाऊंगा -उदय प्रकाश
Add a comment...

Post has attachment
नज़र तुम आती हो
संवारता
हूँ तुझको तेरी
जुल्फों से खेलता हूँ तेरी
माथे की लकीरों को पढता हूँ बार बार और अपने
ख्यालों को उनमें पिरो देता हूँ फिर एक
छोटा सा काला टीका लगा सारी दुनिया
से छुपा लेता हूँ तुमको इस तरह हर
बार जब देखता
हूँ आईने में खुद को नज़र तुम
आती हो ढलती
शाम याद...
Add a comment...

Post has attachment
सपने सो रहे हैं ..
मैं गहरी नींद में हूँ -अंशु मालवीय
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment
Photo
Add a comment...

Post has attachment
तुम
मेरा सबसे प्यारा तोहफा हो तुम, जिस दिन से तुम्हे पाया है जीवन की निराशाओं को आशाओं में में बदलते देखा है मैंने, मेरे होने का मतलब शायद तुझमें ही तो छुपा है तुम लडती- झगडती ,हंसती –खिलखिलाती मेरे जीवन को धाराप्रवाह बनाती हो और मै बहता हूँ बिना किसी रूकावट के...
Add a comment...

Post has attachment
एकांत
चलो साथी तुमको साथ लेकर कहीं दूर चलूँ इस शोर से दूर किसी एकांत में , जहाँ हम जी भर कर  बातें करेंगे प्यार से भरी बातें नफरत का एक भी शब्द हम अपने आवाज़ में नहीं आने देंगे लेकिन तुम रोना नहीं तुम्हारे रोने से मुझे उस शोर में लौटने का भय दिखाई देने लगता है   त...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded