Profile cover photo
Profile photo
Rohit Kumar
54 followers
54 followers
About
Rohit's posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
मदरसों में कम्प्यूटर के एकीकृत दृष्टिकोण आधारित शिक्षण पद्धति की शुरुआत
 
आज 04 फरवरी, 2014 को कामेश हट होटल, जगतगंज, वाराणसी में जनमित्र न्यास (JMN)/मानवाधिकार जननिगरानी समिति (PVCHR) द्वारा सर दोराब जी टाटा ट्रस्ट (SDTT) के सहयोग से नवदलित आन्दोलन के तहत मदरसों में गुणक्त्तापूर्ण शिक्षण विधि हेतु शिक्षा में प्रौद्योगिकी के एकीकृत दृष्टिकोण (ITE) कार्यक्रम के अन्तर्गत वाराणसी के बजरडीहा के मदरसा रौनकुल इस्लाम, मदरसा रिजविया नूरिया व मदरसा मदननीतुल अशरफ के तीनों मदरसों में तीन-तीन लैपटाप व प्रिन्टर दिया गया। साथ ही टेस्टीमोनियल थेरेपी को ध्यान मंे रखते हुए, मध्य वर्गीय परिवार की महिला की वेदना व उसकी संर्घषों की दास्तान को बयां करती मुंशी प्रेमचन्द्र की निर्मला उपन्यास जनमित्र न्यास/मानवाधिकार जननिगरानी समिति व   डेनमार्क की संस्था डिग्निटी के सहयोग से उद्भव प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया गया है। इस पुस्तक का विमोचन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुफ्ती-ए-बनारस मौलाना बातिन नूमानी जी ने किया।
 
संस्था के महासचिव डा0 लेनिन बताया कि वाराणसी व जौनपुर के 20 मदरसों में शिक्षा कार्यक्रम संचालित किया जा रहा है। इस कार्यक्रम के अन्तर्गत बच्चों की शिक्षा में रुचि व शैक्षणिक स्तर में वृद्धि हेतु गतिविधि आधारित शिक्षण प्रक्रिया से शिक्षा देने का काम किया जा रहा है। इन्ही विभिन्न शैक्षणिक गतिविधियों में एक गतिविधि प्रौद्योगिकी के एकीकृत दृष्टिकोण (ITE) के माध्यम से बच्चों के शैक्षणिक स्तर को बढ़ाने के लिए कम्प्यूटर के माध्यम से पाठ्य-पुस्तकों को पढ़ाने की तकनीकी शैली का विकास करने का है। इसी दृष्टिकोण को रखते हुए उक्त मदरसों में लैपटाप दिया गया जा रहा है। साथ ही कम्प्यूटर तकनीकी द्वारा पाठ्य-पुस्तकों को सुलभ सरल व जीवनोपयोगी बनाने के लिए अध्यापिकाओं को भी ट्रेनिंग दी जा रही है।
 
इसी कड़ी में मौलाना बातिन जी ने संस्था के इस कार्य को काफी सराहा और कहा कि इससें बच्चों की रुचि पढ़ने व समझने में बेशक बढ़ेगी साथ ही तकनीकि ज्ञान भी बच्चों का बढेगा और नयी-नयी जानकारियां भी प्राप्त करने में सरलता होगी जिससे मदरसों के बच्चों का भी शैक्षणिक स्तर में वृद्धि होगी।
 
इसके उपरान्त जनमित्र न्यास के गर्वनिंग बोर्ड की सदस्या प्रो0 शाहिना रिजवी जी ने कहा कि मदरसों से पढ़ने वाले लोग भी वैज्ञानिक व विद्वान निकले, हमें मदरसों को उसी तरह पुर्नस्थापित करने की जरुरत है।
 
कार्यक्रम का स्वागत मैनेजिंग ट्रस्टी श्रुति नागवंशी व कार्यक्रम का संचालन इरशाद अहमद, धन्यवाद ज्ञापन अनूप श्रीवास्तव ने दिया।
 
कार्यक्रम में डा0 आरिफ, शिरिन शबाना खान, अजय सिंह, जै कुमार मिश्रा, इदरीश अंसारी, अजीत सिंह, उमेश सिंह, छाया कुमारी, शिव प्रताप चैबे, जौनपुर व बजरडीहा के मदरसा टीचर इत्यादि उपस्थित रहे।
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
मदरसों में कम्प्यूटर के एकीकृत दृष्टिकोण आधारित शिक्षण पद्धति की शुरुआत
27 Photos - View album

Post has attachment

Post has shared content

Post has shared content
https://www.facebook.com/media/set/?set=a.629448023746838.1073741836.573878862637088&type=1
CRY and QIC AC Organized the Peoples' hearing on missing children at Sangeet Natak Academy,Gomati Nagar,Lucknow on 5 August 2013. Dr. Yogesh Dubey:member,National Commission for protection of Child right(NCPCR),Ms. Zareena Osmani:President-State women Commission of UP, Ms. Vidyawati Rajbhar: Chairperson, State labour advisory committee,UP,Mr. Utkarsh Sinha: Editor,Awadnama and Mr. Sandeep Jindal: expert/ Member of panel of NCPCR and advocate Supreme Court are distinguished members of hearing. 25 testimonies of missing children and report on missing children in UP by QICAC and CRY are presented. Welcome by Mr. Rajeev Singh,convener- QIC AC and thanks by R. B. Pal- Secretary General of VOP. Hearing moderated by Ms. Shruti Nagvanshi.

Photo documentation by Rohit Kumar of PVCHR ( http://pvchr.asia/?id=122)
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
Children of lessor god: Missing children of UP,India
47 Photos - View album
Wait while more posts are being loaded