Profile cover photo
Profile photo
Neeraj Tyagi
175 followers -
I am poet writer at Delhi
I am poet writer at Delhi

175 followers
About
Neeraj's posts

Post has attachment
हला हल
पल भर जीवन अर्पित तन मन स्वप्निल बादल निराश दल दल //        अब वही फिर वही पल        पी चुका फिर हला हल        रूह क्या ,तेरी या मेरी        ज़ुदा नहीं ,नहीं विचलित// हो चुके जो अब व्यतीत वही वह बनाते अतीत याद जैसे हो झरोंखे द्रश्य फ़िर वह नए अनोखे //        ...

Post has attachment
"आज की अभिव्यक्ति "(Hindi Poems): दहलीजों के पार बुला लेhttp://ntyag.blogspot.in/2012/02/blog-post_23.html

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
कहाँ गया चाँद !
कहाँ हैं खग कहा हैं मृग बस धुआँ उगलती गाड़ियां बड़े शहरों की जग मग / फूल भँवरे वो पर्वतों की श्रेणी खो गयी कही वो नदियों की कल कल जहाँ सुन्दरी गूँथती थी वेणी / देखो उधर वो आग का गोला जँगलों को निगलता बस  छोटा सा शोला / कट रहे हैं जंगल हो रहे हैं भूस्खलन  वृक्...

Post has attachment

Post has attachment

Post has shared content
Feeling pleasant :)

Post has attachment

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded