Profile

Cover photo
Kavi Vishal Shukla Akkhad
Lives in Kanpur Nagar, Uttar Pradesh, India
117 followers|11,619 views
AboutPostsPhotosYouTube

Stream

 
**
नहीं करता हूं ऐसा काम कि मैं आम हो जाऊं झूठ को सच कह नहीं पाता भले बदनाम हो जाऊं कोशिश कर जीभर मेरे रकीब मुझे डुबाने की तेरे सदके ही सही अक्खड़ से गुलफाम हो जाऊं
 ·  Translate
1
lokenath tiwary's profile photo
 
waah 
Add a comment...
 
**
कभी सोचा है तुम्हें सबसे शिकायत क्यों रहती दूसरों की मिटाने से अपनी लकीर लंबी नहीं होती
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
**
सागर बन फिरता रहा नदियों ने राहें मोड़ लीं बादल बन बरसा दिल जब सखियों ने बाहें छोड़ दीं मिलन की बेला में भी न आया मुझको करार आंसू बन निकले अरमां अपनों ने उम्मीदें तोड़ दीं
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
**
ताऱीफ कैसे करूं तेरी उस अदा की लाखों का दिल तोड़ करोड़ों की ओर बढ़ी
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
एक शेर
जबसे हमने बिजलियां गिराना छोड़ दिया लोग समझते हैं हमारे जिगर में आग नहीं
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
एक शेर
वाह तो नहीं मांगी थी टूटे दिल के साज पर यह सदा बुलंद होगी उनके इस अंदाज पर
 ·  Translate
1
Add a comment...
Have him in circles
117 people
Ratnesh Tiwari's profile photo
Udaypratap Singh's profile photo
Ashish Deep's profile photo
Sumit Wadhwa's profile photo
Bhola Saha's profile photo
Bijay Kumar's profile photo
Rajeev Gupta's profile photo
Suman Agarwal's profile photo
Sanjay Kumar's profile photo
 
**
किसी को भूल से भी भूल में न रहना चाहिए वक्त का हर शख्स गुलाम याद रखना चाहिए आज मेरी बारी है कल तेरी होगी मेरे दोस्त हुस्न तेरा हो न हो जहां में इश्क रहना चाहिए
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
**
हरे भरे को ठूंठ लिखूं कैसे इतना झूठ लिखूं
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
**
नहीं करता हूं ऐसा काम कि मैं आम हो जाऊं झूठ को सच कह नहीं पाता भले बदनाम हो जाऊं कोशिश कर जीभर मेरे रकीब मुझे डुबाने की तेरे सदके ही सही अक्खड़ से गुलफाम हो जाऊं
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
एक शेर
उफ ये अदा तेरी गैरों से दिल लगाने की यूं ही कह देते दुआ क्यूं की मेरे मर जाने की
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
एक शेर
खेल कर मेरे अरमानों से  वह अनजान बने फिरते हैं इतने भी नावाकिफ नहीं हम  दिल में तूफान लिए फिरते हैं
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
तुम चोर नहीं सपनों के हत्यारे हो
तुम चोर नहीं सपनों के हत्यारे हो रात रात भर फिरते मारे मारे हो तुम चोर नहीं सपनों के हत्यारे हो मेहंदी पुछ गई मुनिया की जब रात में डेरा डाला डिग्री छिन गई पप्पू की जब तुमने घर को खंगाला काश कि तुमको खबर भी होती क्या क्या तुम कर डाले हो चोर नहीं तुम सपनों के...
 ·  Translate
1
Add a comment...
People
Have him in circles
117 people
Ratnesh Tiwari's profile photo
Udaypratap Singh's profile photo
Ashish Deep's profile photo
Sumit Wadhwa's profile photo
Bhola Saha's profile photo
Bijay Kumar's profile photo
Rajeev Gupta's profile photo
Suman Agarwal's profile photo
Sanjay Kumar's profile photo
Work
Occupation
खबरें बेचता हूं....
Basic Information
Gender
Male
Relationship
Married
Other names
कुछ ने कहा नाम रख लो विशाल शुक्ल अक्खड़
Story
Tagline
काशी हिंदू विश्वविद्यालय से हिंदी में स्नातक (प्रतिष्ठा), कलकत्ता विश्वविद्यालय से हिंदी में स्नातकोत्तर की डिग्री, भारतीय विद्या भवन, कोलकाता से पत्रकारिता में डिप्लोमा. प्रभात खबर कलकत्ता से पत्रकारिता की शुरुआत, बीच में एक साल देश के पहले बाइलिंगुअल टैबलायड डेली आइनेक्स्ट के हेड आफिस कानपुर में जनरल डेस्क पर बिताये. अक्तूबर 2007 से दिसंबर 2011 तक फिर प्रभात खबर में रहा और जनवरी 2012 से कानपुर फिर कानपुर में.
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Kanpur Nagar, Uttar Pradesh, India
Previously
Kolkata, West Bengal, India - Gonda, Uttar Pradesh, India