Shared publicly  - 
 
हमरु सुरिलू उत्तराखंड...
ईदगा उद्गा नी केर भेजी हम ता पहाडा का लोग छो ई शहर मा ऐकि हमत अप नु पहाड़ थेकि भूली गयों हवा पाणी ऊ
मस्ती मौज खेत , श्यारा और गोर बकरों की खोज ऊ सुच्दा हवाला हम
किद्गा यख कमाना छों कैल जाणी हमर
दिल की हम किद्गा पछताना छो ये पुटुक की खातिर हमल सब घर बार छोड़ य...
Translate
ईदगा उद्गा नी केर भेजी हम ता पहाडा का लोग छो ई शहर मा ऐकि हमत अपनु पहाड़ थेकि भूली गयों हवा पाणी ऊ मस्ती मौज खेत, श्यारा और गोर बकरों की खोज ऊ सुच्दा हवाला हम किद्गा यख कमाना छों कैल जाणी हमर दिल की हम किद्गा पछताना...
3
Vikram singh's profile photo
Add a comment...