Profile cover photo
Profile photo
ranjana bhatia
4,798 followers
4,798 followers
About
Posts

Post has attachment

Post has attachment
बोल तुम्हारे ज़िन्दगी
सुनो ज़िन्दगी ...  तुम जो कहना चाहती हो बिना कहे ही सुन लिया है मैंने तुम बोल रही थी ,बोल तुम्हारे चांद की ताशें काट रहे थे तुम कह रही थीं मन की गांठें खोलते हुए अपने अबूझ अथाह मन की हरकतों की सुगबुगाहट पंछियों सी उडती हुई अपनी सांसों को तुमने खोल दिया था मे...

Post has attachment
ज़िन्दगी की परिभाषा
पत्थर पत्थर है ..वो ग़लत हाथो में आ जाए तो किसी का जख्म बन जाता है ..किसी माइकल एंजलो के हाथ में आ जाए तो हुनर का शाहकार बन जाता है ..किसी का चिंतन उसको छू ले तो वह शिलालेख बन जाता है ..वो किसी गौतम को छू ले तो व्रजासन बन जाता है .और किसी की आत्मा उसके कण क...

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
मैं से मैं तक की यात्रा
अमृता प्रीतम से एक साक्षात्कार में पढ़ा कि ----उनसे किसी ने  पूछा उनकी नज्म मेरा पता के बारे में .... जब उन्होंने मेरा पता जैसी कविता लिखी तो उनके मन की   अवस्था कितनी विशाल रही होगी ..  आदम को या उसकी संभावना को खोज ले तो यही पूर्ण मैं को खोजने वाली संभावन...

Post has attachment

Post has attachment
तू पास नहीं और पास भी है
मायूस हूँ तेरे वादे से कुछ आस नही ,कुछ आस भी है मैं अपने ख्यालों के सदके तू पास नही और पास भी है .... हमने तो खुशी मांगी थी मगर जो तूने  दिया अच्छा ही किया जिस गम का तालुक्क हो तुझसे वह रास नही और रास भी है ....          साहिर की लिखी यह पंक्तियाँ ..अपने मे...

Post has attachment
भर्म की दहलीज
दोस्त ! तुमने ख़त तो लिखा था पर दुनिया की मार्फत डाला और दोस्त ! मोहब्बत का ख़त जो धरती के माप का होता है जो अम्बर के माप का होता है वह दुनिया वालों से पकड़ कर एक कौम जितना क़तर डाला कौम के नाप का कर डाला और फिर शहर में चर्चा हुई वह तेरा ख़त जो मेरे नाम था ल...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded