Profile

Cover photo
Rameshwar Jaiswal
Works at Awaaz IIT Kharagpur
Attended navjeevan mission school
Lives in kharagpur
193 followers|53,550 views
AboutPostsPhotosVideos

Stream

Rameshwar Jaiswal

Shared publicly  - 
 
A report on 'Learn-Earn-Return' by Awaaz,IIT Kharagpur
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Shared publicly  - 
 
**
तेरा था फ़क़त तेरा रहूँगा  बिखरा था ख्वाब मैं भी बिखरा रहूँगा  अदब से खुद को जबतक चुनता रहूंगा  नज़ाकत से लिया मेरा नाम जब तूने  ताउम्र तेरी वो आहटें सुनता रहूंगा  आगोश में सिमटने के अंदाज़ से तेरे  जाने कबतक यूँ ही सुलगता रहूंगा  कह दे गर भीगने की है इल्तिज़ा त...
 ·  Translate
1
Add a comment...

rameshwar jaiswal changed his profile photo.

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Shared publicly  - 
 
**
खामख्वाह सी जिंदगी  खामख्वाह सी जिंदगी है जिए जा रहे हैं ,  अंजान किसी ज़िद को अंजाम दिए जा रहे हैं।  जश्न नहीं है, सिर्फ संताप है यहाँ फिर भी,     जानें किस बात की कीमत अदा किये जा रहे हैं।  दम तोड़ गया वो रोटी की आस में, परवाह किसे  साकी-औ-शराब है, तो जाम प...
 ·  Translate
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Love Shayari  - 
 
दीदार-ए-हुस्न की अभी ख़्वाहिश ना कर
ख्यालों से निकल मेरे दिल-ए-नादान
कि उनके आने का पैगाम अभी बाकी है।

मुश्किल है तारीफ अभी उस 'नज़ाकत' की
वाकिफ़ तो हूँ जमाने भर की सच्चाई से
एक उनके ही चेहरे पे नकाब अभी बाकी है।
 ·  Translate
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Entertainment  - 
 
तेरा अक्स वो मुझमें शामिल है जाना
मैं आईना था तेरा आईना रहूँगा।

इस कदर जोर है बंदिशों का ज़ालिम
मैं तेरा था फ़क़त तेरा रहूँगा। 
 ·  Translate
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Shared publicly  - 
 
**
बात बहुत पुरानी है  दूर किसी विद्यालय की  बच्चों के सुर में गाने की   जय हिन्द! जय हिन्द ! चिल्लाने की  आवाज़ बहुत पुरानी है।  कभी शहर कभी-कभी गाँव की  कभी पुरुष कभी महिलाओं की  शहीदों को शीश नवाने की  रिवाज बहुत पुरानी है।  धरती सागर या हवाओं की  देश के एक ...
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
खामख्वाह सी जिंदगी है जिए जा रहे हैं ,
अंजान किसी ज़िद को अंजाम दिए जा रहे हैं।

जश्न नहीं है, सिर्फ संताप है यहाँ फिर भी,
जानें किस बात की कीमत अदा किये जा रहे हैं।
 ·  Translate
1
Add a comment...

Rameshwar Jaiswal

Shared publicly  - 
 
Rise of the robots
Author Martin Ford discusses the threat of machines taking over for human labour & dealing with its consequences.
1
Add a comment...
 
क्यों मुश्किल है ?
मुहब्बत की सियासत से, 
बेक़सूर 'आशिक़' का बचना । 
छुड़ाकर हाथ तेरे हाथों से,
अकेले रास्तों पर चलना। 
क्यों मुश्किल है ?
बुझाकर दीये तेरे नूर की खातिर, 
अंधेरों में फिर से चमकना। 
तेरे आगोश में सिमटने को,
फिर से वैसे ही तरसना। 
क्यों मुश्किल है ?
 ·  Translate
3
1
Jayshree Shukla Lamba's profile photoindrajeet prasad's profile photo
2 comments
 
शानदार 
 ·  Translate
Add a comment...
Work
Occupation
studying Mechanical Engineering at IIT Kharagpur
Employment
  • Awaaz IIT Kharagpur
    journalist, 2013 - present
  • Dover India Pvt. Ltd
    Summer Intern, 4 - 15
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
kharagpur
Links
Other profiles
Education
  • navjeevan mission school
    2009
Basic Information
Gender
Male