Profile cover photo
Profile photo
Shrinathji Temple
658 followers -
Official page of Shrinathji Temple, Nathdwara
Official page of Shrinathji Temple, Nathdwara

658 followers
About
Shrinathji Temple's interests
Shrinathji Temple's posts

Post has attachment
Shri Gusaiji Ki Sevak Ek Vaishnav Mohandas Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता (वैष्णव
– १५५ ) श्रीगुसांईजी
की सेवक एक वैष्णव मोहनदास
की वार्ता  वैष्णव
मोहनदास गोपालपुर में रहते
थे और गोविन्द कुण्ड पर नित्य
स्नान करने जाते थे | ये
गोपालपुर की ओर से श्रीगिरिराज
पर चढ़कर गोविन्द कुण्ड की
ओर उतरते थे | एक
दिन उतार प...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Ek Shravak Ki Beti Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता   ( वैष्णव - १६६ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक एक श्रावक की बेटी की
वार्ता श्रीगुसांईजी
आगरे पधारे थे | वे
आगरा में रूप चाँद नंद के घर
विराज रहे थे | उसी
समय की बात है , किसी
विशेष अपराध में एक व्यक्ति
को फाँसी की सजा दी गयी थी | उस
फाँसी की ...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Ek Kishori Baai Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता (वैष्णव-१६५) ) श्री गुसांईजी के सेवक एक किशोरी बाई की वार्ता किशोरी
बाई एक वैष्णव की बेटी थी जो
बाल्यावस्था में ही श्रीगुसांईजी
की सेवक हुई। इसके बाद उसके
शीतला ( चेचक ) निकली , उसके
प्रभाव पैरो लुज्ज ( लूली ) हो
गई। उसके माता - पिता
...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Do Sanchora Bhaiyo Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - १६४ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक दो साँचोरा भाइयो की
वार्ता ये
दोनों साँचोरा भाई गुजरात
में रहते थे | एक
समय श्रीगुसांईजी गुजरात
पधारे तब दोनों भाइयो को नाम
निवेदन कराया था | दोनों
भाई श्रीठाकुरजी की सेवा करने
लगे | ये
रातदिन भग...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Ek Baniya Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता (वैष्णव - १६३)श्रीगुसांईजी
के सेवक एक बनिया की वार्ता वह
बनिया - वैष्णव
गुजरात में रहकर भली भांति
श्रीठाकुरजी की सेवा करता
था | जो
भी वैष्णव आता था |
, उसकी
सेवा भी भली भांति से करता था | उसके
घर में भगवद वार्ता भी होती
थी | गाँव
में ए...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Ek Tadrushi Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - १६१ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक एक तादृशी की वार्ता एक
भगवदीय वैष्णव और तादृशी दोनों
गुजरात के वासी थे | भगवदीय
वैष्णव राजनगर में रहते थे
और तादृशी वैष्णव धोलका में
रहते थे | दोनों
की परस्पर मिलने की बहुत इच्छा
रहती थी | एक
समय भ...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Baharvala chuhuda ki varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - २६० ) श्रीगुसांईजी
के सेवक बाहरवाला चूहुडा की
वार्ता  वह
चूहुडा नित्य प्रति श्रीगोकुल
की गलियों की सफाई करता था | वह
यह भी जनता था की श्रीगुसांईजी
ठकुरानी घाट पर पधारते है | इनके
चरणों में कचरा नहीं लगे तो
अधिक अच्छा रहे | ...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Shyamdas Virkt Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - १५९ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक श्यामदास विरक्त की
वार्ता विरक्त
श्यामदास के ऊपर श्रीगुसांईजी
की पूर्ण कृपा थी | उनको
श्रीठाकुरजी अनुभव जानते थे | एक
दिन लालदास ब्राह्मण श्रीगुसांईजी
का सेवक बना और उसने विनती की -
" महाराज , में
...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Preto Ke Udhaar Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - १५८ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक प्रेतों के उध्द्वार
की वार्ता एक
बार श्रीगुसांईजी गुजरात
पधारे तो एक गाँव के बाहर
उन्होंने विश्राम ( डेरा ) किया | श्रीगुसांईजी
उस गाँव में कभी पधारे नहीं
थे | सायंकाल
हो जाने पर उन्होंने गाँव के
...

Post has attachment
Shri Gusaiji Ke Sevak Ek Vaishyaa Ki Varta
२५२
वैष्णवो की वार्ता ( वैष्णव - १५७ ) श्रीगुसांईजी
के सेवक एक वैश्या की वार्ता इस
वैश्या का माधवदास से बहुत
स्नेह था । माधवदास ने इस वैश्या
का त्याग कर दिया। माधवदास
से त्यागी गई यह वैश्या नमक
से टिकड़ा ( नमकीन
परामठे ) खाती
थी | घी , शाक , तेल , चावल
आदि न...
Wait while more posts are being loaded