Profile cover photo
Profile photo
mata mandir
25 followers -
worship by soul...
worship by soul...

25 followers
About
Communities and Collections
Posts

Post has attachment
Jai Mata di

Visit http://Matamandir.com
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
11/24/16
26 Photos - View album
Add a comment...

Post has attachment
mata vaishno devi darshan yatra
PhotoPhotoPhotoPhotoPhoto
4/11/16
9 Photos - View album
Add a comment...

Post has attachment
dhoona bhairav baba mandir mata vaishno devi
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Vaishnodevi BanGanga
Photo
Photo
4/11/16
2 Photos - View album
Add a comment...

Post has attachment
Photo
Add a comment...

देवी के नवरात्रि मैं रखें ख्याल इन बातो का :

नवरात्रि पर देवी पूजन और नौ दिन के व्रत का बहुत महत्व है. मां दुर्गा के नौ रूपों की अराधना का पावन पर्व शुरू हो रहा है. इन नौ दिनों में व्रत रखने वालों के लिए कुछ नियम भी होते हैं।
- नवरात्रि में शुद्धि का ख्याल ज़रूर रखें, देवी माँ पूरे व्रह्माण्ड की शक्ति हैं और जिस माता के इशारे मात्र से सूरज चाँद सहित पूरी कायनात चलती है उस माँ को व्रह्माण्ड की स्वामिनी जानकर पूरी श्रद्धा और विश्वास से आराधना करनी चाहिए।
- नवरात्रि में नौ दिन का व्रत रखने वालों को दाढ़ी-मूंछ और बाल नहीं कटवाने चाहिए. इस दौरान बच्चों का मुंडन करवाना शुभ होता है.

- नवरात्रि में नौ दिनों तक नाखून नहीं काटने चाहिए.

- अगर आप नवरात्रि में कलश स्थापना कर रहे हैं, पण्डित द्वारा दुर्गा सप्तसती पाठ करा रहे हैं या माता की चौकी का आयोजन कर रहे हैं या अखंड ज्योति‍ जला रहे हैं तो इन दिनों घर खाली छोड़कर नहीं जाएं।
- नवरात्रि में शराब, सिगरेट या कोई भी नशा, खाने में प्याज, लहसुन और नॉन वेज बिल्कुल न खाएं।

- नवरात्रि व्रत रखने वालों को काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।
- नवरात्रि व्रत रखने वाले लोगों को बेल्ट, चप्पल-जूते, बैग जैसी चमड़े की चीजों का इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.

- नवरात्रि व्रत रखने वालों को नौ दिन तक नींबू नहीं काटना चाहिए।

- नवरात्रि व्रत में नौ दिनों तक खाने में अनाज, अशुद्ध चीजों और नमक का सेवन नहीं करना चाहिए।

- खाने में फल, कुट्टू का आटा, समां के चावल, सिंघाड़े का आटा, शुद्ध साबूदाना, सेंधा नमक, फल, आलू, मेवे, मूंगफली खा सकते हैं।

- मार्कण्डेय पुराण के अनुसार माता के नवरात्रि व्रत के समय दिन में सोने, तम्बाकू चबाने और शारीरिक संबंध बनाने से भी व्रत का फल नहीं मिलता है।
Add a comment...

...........माँ बहुत झूठ बोलती है............

सुबह जल्दी जगाने को, सात बजे को आठ कहती है।
नहा लो, नहा लो, के घर में नारे बुलंद करती है।
मेरी खराब तबियत का दोष बुरी नज़र पर मढ़ती है।
छोटी छोटी परेशानियों पर बड़ा बवंडर करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

थाल भर खिलाकर, तेरी भूख मर गयी कहती है।
जो मैं न रहूँ घर पे तो, मेरी पसंद की कोई चीज़ रसोई में उससे नहीं पकती है।
मेरे मोटापे को भी, कमजोरी की सूजन बोलती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

दो ही रोटी रखी है रास्ते के लिए, बोल कर,
मेरे साथ दस लोगों का खाना रख देती है।
कुछ नहीं-कुछ नहीं बोल, नजर बचा बैग में, छिपी शीशी अचार की बाद में निकलती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

टोका टाकी से जो मैं झुँझला जाऊँ कभी तो,
समझदार हो, अब न कुछ बोलूँगी मैं,
ऐंसा अक्सर बोलकर वो रूठती है।
अगले ही पल फिर चिंता में हिदायती हो जाती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

तीन घंटे मैं थियटर में ना बैठ पाऊँगी,
सारी फ़िल्में तो टी वी पे आ जाती हैं,
बाहर का तेल मसाला तबियत खराब करता है,
बहानों से अपने पर होने वाले खर्च टालती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

मेरी उपलब्धियों को बढ़ा चढ़ा कर बताती है।
सारी खामियों को सब से छिपा लिया करती है।
उसके व्रत, नारियल, धागे, फेरे, सब मेरे नाम,
तारीफ़ ज़माने में कर बहुत शर्मिंदा करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

भूल भी जाऊँ दुनिया भर के कामों में उलझ,
उसकी दुनिया में वो मुझे कब भूलती है।
मुझ सा सुंदर उसे दुनिया में ना कोई दिखे,
मेरी चिंता में अपने सुख भी किनारे कर देती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

उसके फैलाए सामानों में से जो एक उठा लूँ
खुश होती जैसे, खुद पर उपकार समझती है।
मेरी छोटी सी नाकामयाबी पे उदास होकर,
सोच सोच अपनी तबियत खराब करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

" 🙏हर माँ को समर्पित🙏 "
Add a comment...

Post has attachment
माँ बहुत झूठ बोलती है............

सुबह जल्दी जगाने को, सात बजे को आठ कहती है।
नहा लो, नहा लो, के घर में नारे बुलंद करती है।
मेरी खराब तबियत का दोष बुरी नज़र पर मढ़ती है।
छोटी छोटी परेशानियों पर बड़ा बवंडर करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

थाल भर खिलाकर, तेरी भूख मर गयी कहती है।
जो मैं न रहूँ घर पे तो, मेरी पसंद की कोई चीज़ रसोई में उससे नहीं पकती है।
मेरे मोटापे को भी, कमजोरी की सूजन बोलती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

दो ही रोटी रखी है रास्ते के लिए, बोल कर,
मेरे साथ दस लोगों का खाना रख देती है।
कुछ नहीं-कुछ नहीं बोल, नजर बचा बैग में, छिपी शीशी अचार की बाद में निकलती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

टोका टाकी से जो मैं झुँझला जाऊँ कभी तो,
समझदार हो, अब न कुछ बोलूँगी मैं,
ऐंसा अक्सर बोलकर वो रूठती है।
अगले ही पल फिर चिंता में हिदायती हो जाती है।
.........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

तीन घंटे मैं थियटर में ना बैठ पाऊँगी,
सारी फ़िल्में तो टी वी पे आ जाती हैं,
बाहर का तेल मसाला तबियत खराब करता है,
बहानों से अपने पर होने वाले खर्च टालती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

मेरी उपलब्धियों को बढ़ा चढ़ा कर बताती है।
सारी खामियों को सब से छिपा लिया करती है।
उसके व्रत, नारियल, धागे, फेरे, सब मेरे नाम,
तारीफ़ ज़माने में कर बहुत शर्मिंदा करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

भूल भी जाऊँ दुनिया भर के कामों में उलझ,
उसकी दुनिया में वो मुझे कब भूलती है।
मुझ सा सुंदर उसे दुनिया में ना कोई दिखे,
मेरी चिंता में अपने सुख भी किनारे कर देती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

उसके फैलाए सामानों में से जो एक उठा लूँ
खुश होती जैसे, खुद पर उपकार समझती है।
मेरी छोटी सी नाकामयाबी पे उदास होकर,
सोच सोच अपनी तबियत खराब करती है।
..........माँ बहुत झूठ बोलती है।।

माँ को समर्पित
Photo
Add a comment...

Post has attachment
जगत जननी माता भगवती के स्वरूप जो प्राचीन वेदों और पुराणो में वर्णित है 
उन स्वरूपों के साथ-साथ भारतीय संस्कृति के अनुरूप ईश्वरी शक्ति को 
ऑनलाइन दर्शाने का प्रयास "मातमंदिर" को भव्य स्वरूप देने में 
आप का सहयोग प्रार्थनीय हैं 
जगत जननी माता का ऑनलाइन
भव्य मन्दिर बनाने में सहयोग करें:
Rehtom Foundations
Account No. 32807944173
IFS Code : SBIN0014461
MICR Code : 110002360
Branch: Okhla Phase-1, New Delhi
Photo
Add a comment...

Post has attachment
Wait while more posts are being loaded