Profile

Cover photo
अर्चना चावजी Archana Chaoji (मायरा की नानी)
Lives in इन्दौर, मध्य प्रदेश, भारत
4,556 followers|534,785 views
AboutPostsPhotosYouTubeReviews

Stream

Pinned
 
विरह ...
विरह ... सावन आँगन बरसे बूँदे,पलकन बोझा ढोय सरर सरर मोरी चुनरी सरके सिहरन देह मा होय... चाँद बिछावै तारा रंगोली जब चाँदनी आँगन धोय सरस सुगंध मदन मन मोहे, सजन बुला दे कोय... कजरा गजरा महावर रूठे, रोम-रोम हुलसाय सखी सुन,मोरो चैन भी खोयो,विरह मोहे तड़पाय ..... ...
 ·  Translate
5
 
नन्हे-नन्हे मोती यूँ न खो
हर हाल में हम सुखों को बाँटें, करें दुखों का मिलकर दमन। जीवन जिसने दिया है हमको, उस विधाता को हमारा नमन। सुखों का मौसम,दुखों का मौसम, आए, आकर जाए। हर एक के, मन के आँगन में, सपनों को बिखराए। सुख आते तो, खिलती पाँखें, खुशी-खुशी सब मुस्काते। चेहरे सबके खिले-खि...
 ·  Translate
2
 
एक कहानी
 ·  Translate
 
आराधना "मुक्ति" की कहानी - शर्त
आज सुनिए आराधना "मुक्ति" के ब्लॉग ईचक दाना बीचक दाना   से उनकी लिखी एक कहानी शर्त प्लेअर पोस्ट नहीं कर पा रही थी ...आदरणीय अनुराग  जी की मदद से ये हो पाया ..उन्होंने एडिटिंग भी की है .... आभारी हूँ उनकी .... सुनकर बताईयेगा कैसी लगी ... कहानि को कहानी की तरह...
 ·  Translate
1 comment on original post
2
 
अभिनय - कठपुतली का
कल सुबह-सुबह  फोन आया ,फोन बदल लेने से नम्बर सेव नहीं था ....नया नम्बर लगा ...फ़िर आदत से लाचार खुद फोन लगाया .... नमस्ते नितेश बोल रहा हूँ,....आवाज आई..नितेश उपाध्याय.. -हाँ,हाँ पहचान लिया , नमस्ते ,बोलिए - मैडम , एक हेल्प चाहिए थी -जी, कहिए -वो क्या है कि ...
 ·  Translate
3
 
रविवा,र १२ अप्रैल, २०१५
 ·  Translate
और... जन्मदिन के दूसरे दिन था रविवार ...सबकी छुट्टी का दिन ....... साबी चाचू से  पूल गिफ़्ट किया मिला ... मौसम भी मस्त था हल्की धूप ..... पापा और चाचू ने छत पर पार्टी अरेंज की मेरी और कान्हा भैया की पूल पार्टी नाश्ता-पानी सब व...
3
 
जब फ़ुलाया फ़ुग्गा मैंने भी  आई बारी केक काटने की  और फ़िर डांस .....
5
Have her in circles
4,556 people
Arun Yadav's profile photo
Dhakad Chhora's profile photo
amit chopda's profile photo
Ramesh Kumar's profile photo
Sanjay Taneja's profile photo
PRABHU RAM BHAMBHU's profile photo
dush yant's profile photo
sarath.ts Sajith's profile photo
Dilshad ahmad's profile photo
 
भले घर की बेटी
ये तमाम उन महिलाओं की कहानी है,जो अब तक मुझे कहीं न कहीं टकराई है।इनके नाम सीता,राधा,पार्वती,अनुसुईया,गौतमी,सावित्री,मीरा दामिनी जैसे कुछ भी हो सकते हैं .... १) वो भले घर की लड़की,माता-पिता की लाड़ली,बड़ी हुई,शादी हुई,एक बेटी की माँ बनी ,फिर पति का अचानक एक्सी...
 ·  Translate
2
 
आराधना "मुक्ति" की कहानी - शर्त
आज सुनिए आराधना "मुक्ति" के ब्लॉग ईचक दाना बीचक दाना   से उनकी लिखी एक कहानी शर्त प्लेअर पोस्ट नहीं कर पा रही थी ...आदरणीय अनुराग  जी की मदद से ये हो पाया ..उन्होंने एडिटिंग भी की है .... आभारी हूँ उनकी .... सुनकर बताईयेगा कैसी लगी ... कहानि को कहानी की तरह...
 ·  Translate
1
1
Sameer Lal's profile photoअर्चना चावजी Archana Chaoji (मायरा की नानी)'s profile photo
 
सुन लिए
 ·  Translate
 
पैरों की जूती
यहाँ ऐसे -ऐसे लोग हैं  जो ये मानते हैं - उनके पैरों की जूती भी नहीं हैं आप ... खुद पर विश्वास रखो मिलेगा वही जो चाहते हो बस!  स्वार्थ न हो  निस्वार्थ रहो सदा करते चलो अपने काम बेझिझक बेहिसाब फिर वे ही लोग  आपकी जूती में  पैर डालने की कोशिश  करते नज़र आएंगे आ...
 ·  Translate
1
 
देखो ...देखो!!! वो आ रही है ....
११/०४/२०१५.... और कुछ इस तरह उतर कर आई हमारी "मायरा" अपने जन्मदिन की पार्टी में ... Posted by अर्चना चावजी on Wednesday, April 15, 2015
 ·  Translate
3
People
Have her in circles
4,556 people
Arun Yadav's profile photo
Dhakad Chhora's profile photo
amit chopda's profile photo
Ramesh Kumar's profile photo
Sanjay Taneja's profile photo
PRABHU RAM BHAMBHU's profile photo
dush yant's profile photo
sarath.ts Sajith's profile photo
Dilshad ahmad's profile photo
Work
Occupation
स्पोर्ट्सटीचर
Basic Information
Gender
Female
Story
Tagline
सीखी हुई बात/ चीज कभी बेकार नहीं जाती ... और जो होता है अच्छे के लिए होता है ....
Introduction

मै, सबसे पहले एक बेटी,फ़िर बहन,फ़िर सहेली,फ़िर पत्नी,फ़िर बहू, फ़िर माँ,फ़िर पिता,फ़िर वार्डन, फ़िर स्पोर्ट्स टीचर और फ़िलहाल "ब्लॊगर" के किरदार को निभाती हुई,"ईश्वर" द्वारा रचित "जीवन" नामक नाटक की एक पात्र -

Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
इन्दौर, मध्य प्रदेश, भारत
बिना किसी लॉग-लपेट के लिखे गए ज्योतिषीय आलेख पढ़ती आई हूँ....जो वैज्ञानिक तथ्यों पर आधारित होते हैं....अंधानुकरण पद्धति से कोसों दूर ....और स्पष्ट.......सरल भाषा में...... एक सुलझी सोच के मालिक सिद्धार्थ जी पिछली और अगली दोनों पीढ़ियों के सामंजस्य को बनाए रखने में सफल है,और इसलिए मैं इनकी कायल हूँ.......
Public - a week ago
reviewed a week ago
1 review
Map
Map
Map