Profile

Cover photo
Sujit Kumar Lucky
Works at TechAliens
Attended A R D Saraswati Vidya Mandir Bhagalpur
Lives in Delhi
2,422 followers|783,547 views
AboutPostsCollectionsPhotosYouTube+1'sReviews

Stream

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
वो जो रातों को जो अधजगा सा रखता,
आधा अधूरा सा सही शायद इश्क़ ही है ! <3
 ·  Translate
वो जो रातों को अधजगा सा रखता, अजनबी संग देखो सब भेद है कहता, यूँ ही मन ही मन कुछ गुनगुनाता है रहता !ये जो कुछ कुछ अपना सा लगने लगा है, ये देखो कौन अब कुछ नया चुनने लगा है ...
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
आईये एक मुहीम अपनाते
” सोशल मीडिया पर जो लोग गाली गलौज करते वो बीमार है ! उन्हें गेट वेल सून कहिये ! “
 ·  Translate
सोशल मीडिया और गाली गलौज …. बहुत अच्छा प्रश्न है ; व्यापक है ; समस्या है ! लेकिन रोज एक ही बात बोलना की गाली गलौज हो रहा , ये कौन लोग है , वो कौन लोग है !
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
दैनिक जागरण में आज ~ "मेक इन इंडिया" को दर्शाती मेरे मंजूषा पेंटिंग को जगह मिली !

#MakeInIndia #ManjushaArt
 ·  Translate
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
मंजूषा कला के बढ़ते कदम ! १५ मई रविवार की सुबह सैंडिस कम्पाउंड, भागलपुर ; मंजूषा कला के लिए ऐतहासिक रहा यहाँ पर ५० से ज्यादा कलाकारों ने अंग प्रदेश की संस्कृति को दीवारों पर उकेरा ! १५० फ़ीट की दीवारें मंजूषा पेंटिंग से सज गई, अनेकों कलाकारों ने इन दीवारों को जीवंत कर दिया !

#‎ManjushaArt‬ #Bhagalpur #Bihar 
 ·  Translate
मंजूषा कला के बढ़ते कदम ! १५ मई रविवार की सुबह सैंडिस कम्पाउंड, भागलपुर ; मंजूषा कला के लिए ऐतहासिक रहा यहाँ पर ५० से ज्यादा कलाकारों ने अंग प्रदेश की संस्कृति
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
यादों की पहेली को
कुछ इस तरह सुलझाओ
बूझो तो बूझ जाओ
वरना भुलाते जाओ

तुमने भुला दिया है
इतना यकीन है पर
मैंने भुला दिया है
इसका यकीं दिलाओ

मुझे छोड़ के गए तुम
सब ले गए थे क्यूँ तुम
इतना रहम तो कर दो
इक घाव छोड़ जाओ

कुछ नफरतें पड़ी हैं
कहीं पे तुम्हारे घर में
मेरा है वो सामां तुम
वापस मुझे दे जाओ

मेरा ग़म का खज़ाना है
तेरे पास मुस्कराहट
अपना जो है ले जाओ
मेरा जो है दे जाओ
 ·  Translate
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
गुस्सा …..

तुम मिलो मुझसे कहीं,
मैं नजरे छुपाऊ,
तुम पूछो कुछ तो,
मैं अनजान हो जाऊ !

#SK #Poetry 
 ·  Translate
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर ...
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
ये कैसी शरारत करते हो,
रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो,
तेरे जाने के बाद एक तारा,
पास आ बैठता,
कन्धों पर हाथ रख,
पूछता है तुम्हारी कहानी,
मैं उससे झूठ कहता की,
तुम एक दिन आने को कह गए हो,
उसकी हँसी चिढ़ाती है मुझे,
जैसे उसने बात न मानी हो मेरी !

किसी रोज आके दो घड़ी,
पास तो बैठो,
हाँ रात घनी हो बिना बादलों वाली,
उस तारे को दिखाना है मुझे,
जड़ना है उसके मुँह में ताला,
उसको पता चले जमीं पर चाँद होता है ।

ये कैसी शरारत करते हो;
रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो !

#SK #Poetry
 ·  Translate
ये कैसी शरारत करते हो, रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो, तेरे जाने के बाद एक तारा, पास आ बैठता, कन्धों पर हाथ रख, पूछता है तुम्हारी कहानी, मैं उससे झूठ कहता की, ...
2
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
ऐसे तो बसी है मन में,
एक सुन्दर कृति पुरानी,
रूखे रूखे रुख ने तेरे,
कुछ उसको भी तो घिस दिया,
जैसे रेगमाल रगड़ दिया हो किसीने,
कभी मेरे शब्दों के आईने से देखना,
तेरा चेहरा अब वैसा मासूम नहीं रहा !
‪#‎WordsofInsanePoet‬ ~ SK
 ·  Translate
हृदय का एक कोना, तुम्हारा एक हिस्सा था वहाँ, तेरा चेहरा और कई तस्वीरें, भरने लगा है वो, उलझनों से अब, जद्दोजहत तो होती है, अकेले उन्हें हटाने की, शायद रख पाता तुम्हें ...
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
तेरे यादों की शाम कभी ढलती ही नहीं ;
शायद सहर होने तक मुझे नींद आ जाये !!

#Night_And_Pen 󾔲
 ·  Translate
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
किसी भी लहजे में तो नहीं कहा,
कह ही नहीं पाता शायद सामने,
हृदय मैं उठते क्षोभ के लिए बस,
मैं कुछ कवितायेँ ही लिख सका !

#SK #Poetry  
 ·  Translate
किसी भी लहजे में तो नहीं कहा, की तुम्हारी कई बातें अच्छी नहीं, झुंझलाहट भरी थी चुप्पी तेरी, प्रेम में डूब के कैसे कहता की, कुछ द्वेष भी तो पलने लगा अंदर, ...
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
󾔧 और तब 󾠉

और तब
से आगे का किस्सा ?
जहाँ रात को रोक के कल,
हम और तुम कहीं चले गए थे,
उस चाँद को गवाही बनाके,
की फिर इसी वक़्त रोज,
यहीं आ बैठेंगे और पूछेंगे तुमसे,
और तब ?
थोड़ी देर तुम सोचो,
थोड़ी देर मैं भी कुछ,
फिर तुम भी कुछ कहना,
फिर मैं भी सब कुछ कहता,
जब कुछ कहने का मन नहीं होता,
तुम्हें ही सोचते हुए तुमसे कह लेता,
और तब ?
वो चाँद भी ऊब जाता होगा कभी कभी,
रोज वहीँ से वही बात सुनकर,
चाँद भी तो रोज रात संग ऐसे ही बातें करता होगा,
शायद वो भी पूछता होगा “और तब ?” !

#Sujit Poetry 󾠤
 ·  Translate
Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के सफर के बाद वर्तमान कर्मभूमि भागलपुर ...
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
ग्रीष्म ऋतु में सम्पूर्ण चराचर ही व्याकुल रहता है ; मानव ही नहीं पशु पक्षी भी प्रकृति से शीतलता की आस रखते ; ग्रीष्म के ऐसे ही किसी दोपहर से कुछ तस्वीर, खेत किनारे जलाशय में जल क्रीड़ा में मग्न ये !
‪#‎Summer_Shot‬ ‪#‎Nikon‬
 ·  Translate
1
Add a comment...
Sujit's Collections
People
In his circles
2,814 people
Have him in circles
2,422 people
Kamlakar Chaurasia's profile photo
Maria-Antonia Diaz's profile photo
michael bee's profile photo
Rahim Saiyad's profile photo
Suket Verma's profile photo
Neeraj Sharma's profile photo
manish saini's profile photo
siva prasad's profile photo
Piyush Paras's profile photo
Education
  • A R D Saraswati Vidya Mandir Bhagalpur
    School, 1995 - 2001
  • Marwari College, Bhagalpur
    10+2, 2001 - 2003
  • TMBU
    B.COM, 2003 - 2007
  • Sikkim Manipal University
    MCA, 2007 - 2010
Basic Information
Gender
Male
Looking for
Friends, A relationship, Networking
Other names
सुजीत भारद्वाज
Story
Tagline
सुजीत भारद्वाज - Web Analyst, Blogger, SEM/SEO/SMO Professional , Writer, Poet
Introduction
In between Subtle fate I am avid for my dreams & Desire... Always tried to become a reason of someone smile... First you will observe me as Stubborn Mind, hard headed... once attached with me your perception change.  Not Born to Write but write to be alive... live in a parallel universe of my words where my words inspire me, talk to me. See every moment’s n memories with my poetic eyes. A mentor, friend, all time life seeker meet with me @ - sujitkumar.in 

Sujit Kumar Lucky from India involves in search and digital marketing... My Web Affection inspires me to make a Innovative web Experience. Putting imagination of web trends in work is my passion. I always accepted my successes, mistakes and failure it admires me to rethink about me. Although I found myself as friendly, emotional sensitive person and person who want to help others. I am a versatile person who colors his life with several colors... and always enjoying this beautiful Rainbow of life.I Believes in “Do Before You Die”.  here for SEO, SMO, Friendship , share Hindi poems thoughts feelings and much more enjoy.. ! !

"अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुरती जा रही , हर रोज एक नया फलसफा जिन्दगी का, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! ! (सुजीत भारद्वाज) "
Bragging rights
Tech Enthusiasts From India , A Poet , Writer, Thinker !
Work
Occupation
Web Analyst, Blogger, SEO/SMO Professional , Writer
Skills
SEO, SMO, SEM, Google Analytics, Design, Development, Blogger, Google Analytics & Google Adword Certified Professional
Employment
  • TechAliens
    Web Analyst/Blogger, 2011 - present
    Author of www.techaliens.com [Blogging About Technology, SEO, SMO, Mobile] and Share research work with Friends and community !
  • Earmark E Services Pvt. Ltd.
    Digital Marketing Head, 2013 - 2013
    New Venture of Life to serve myself as A Motivator for Team, A Tech enthusiast. Establish Search and Social marketing strategy for company and clients. Also time to time share expertise on Blogs.
  • Go Heritage India Journeys Pvt.Ltd
    Team Leader ( Digital Marketing), 2010 - 2013
    Team Leader of Internet Marketing Team, Work profile includes: - Go Heritage India Journeys Travel Portal & Its 45 + Vertical Sites. - Team Work Assignments and Reporting, Interaction with Design, Development, Content Teams for New Projects and Work Managements, Business & ROI - Appreciation : Best Employee of the month, Team motivator & performer Rewards
  • vAngelz Technologies
    Senior SEO/SMO, 2010 - 2010
    Leveraging Career in Search and Social Media on Mobile Price Comparison Portals of V-angelz technology projects.
  • Weblogics Corporation
    Senior SEO, 2008 - 2009
    Kick start career in Field of Internet marketing learn lot - shape myself in field of SEO, SMO, ORM.. ! Thanx for Company members and directors to give me chance to work here !
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Delhi
Previously
Bhagalpur, Bihar - Bhagalpur>>Bihar>>Delhi>>??
Contact Information
Home
Email
Work
Email
Sujit Kumar Lucky's +1's are the things they like, agree with, or want to recommend.
रात और चाँद … – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

ये कैसी शरारत करते हो, रात तारों के साथ ऊँघने छोड़ जाते हो, तेरे जाने के बाद एक तारा, पास आ बैठता, कन्धों पर हाथ रख, पूछता है तुम्हारी कहानी

तेरा चेहरा अब … – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

हृदय का एक कोना, तुम्हारा एक हिस्सा था वहाँ, तेरा चेहरा और कई तस्वीरें, भरने लगा है वो, उलझनों से अब, जद्दोजहत तो होती है, अकेले उन्हें हटान

और तब … – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के स

गुस्सा ….. – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

Sujit Kumar Lucky - मेरी जन्मभूमी पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) .. अंग प्रदेश की भागीरथी से कालिंदी तट तक के स

तुम बेवजह ही आ जाओ … – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

मेरे पास वजह नहीं कोई, तुम बेवजह ही आ जाओ, आके खोलो फिर पोटली, यादों की पोटली मैं भी खोलूँ, तुम रूठना निकालों उससे, मैं मनाने की कोई तरकीब,

खुदगर्ज़ …. – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

कितना खुदगर्ज़ दिन है चुपचाप से रोज बीत जाता न शाम से कुछ कहता, और रात तो कबसे खामोश सी है । इन तीनों का कुछ झगड़ा सा है, कोई किसी से नहीं म

जिंदगी और किताब – Night &amp; Pen – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

ऐसे ही बात शुरू हुई जिंदगी और किताब की … सब कुछ कहीं न कहीं सोचा गया होगा, या कोई किताब होगी जिन्दगी की किताब जिसमें लिखा होगा कौन किसके जिन

तुम आते तो रंग चढ़ता थोड़ा …… – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

कुछ सादा फीका फाल्गुन था, तुम आते तो रंग चढ़ता थोड़ा, कुछ नीला पीला गालों पर, बालों से कुछ रंग झरता तेरा ! ऐसे तो हरपल यादों में रंगता, साथ

शाम की व्याख्या ….. – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

एक मित्र ने शाम की एक तस्वीर पर कुछ लिखने को कहा, कवि अनेकों नजरिये से परिभाषित कर सकता किसी चीज को, तो शाम की व्याख्या कुछ इस तरह … evening

वसंत की ताक में …. – Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

जाती हुई ठण्ड, पछिया हवा के थपेड़े, किसी रूठी हुई प्रेमिका की तरह का दिन, दोपहर जैसे खामोश और चिरचिरा, न कुछ बोलता न कुछ सुनना ही चाहता ! वो

पागल दुनिया …. | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

बस ओहदे बनने की होड़ में ; हमने इंसान बनना छोड़ दिया । तू मैं और मैं तू के शोर में ; हमने बातें सुनना छोड़ दिया । बस संदेशों की आवाजाही में

हैप्पी बर्थडे – इनबॉक्स लव ~ 14 | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

तुमने ही शुरू किया था ये सब ! तुम्हारा वो जीटॉक स्टेटस .. “हैप्पी बर्थडे टू माय स्पेशल फ्रेंड :) :D” दो तीन स्माइली के साथ खूबसूरत सा वो मैस

अब तेरी शैतानियाँ बढ़ गयी है … | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

घर में कोई छोटा जब शैतानियाँ करता बचपन याद आ जाता, एक कविता इसी बचपन और उसके कौतुहल के इर्द गिर्द !! naughty childhood poem अब तेरी शैतानिया

Love in December – इनबॉक्स लव ~13 | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

दिसम्बर, धुंध, सिमटी रातें … दिसम्बर की कुछ यादें ! जल्दी जल्दी शाम का ढल जाना ; हाँ हर बदलता मौसम यादों को भी तो बदल देता ; ये शीत में धुलत

उपेक्षा …. | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

स्नेह, उपेक्षा, मायूसी, विक्षोभ के इर्द-गिर्द घुमती एक कविता !!! Birds - Ignorance emotional poem उपेक्षा. कल्पित चित्र था सुबह का , दो पंछी

बहुत दूर चला …. इनबॉक्स लव -12 | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

अब बहुत ही दूर चला गया । हाँ इस इंटरनेट के अनंत संसार से परे ; पता नहीं कितनी दूर हाँ जहाँ से कोई संवाद नहीं होगा , कोई खबर नहीं होगी तुम्हा

अंतर्द्वंद – Night &amp; Pen | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

विचारों का जहाँ ठहराव हो जाता ; वहीँ से एक उदगम भी तो है एक नए विचार का ही ! कोई खामोश रहता है, जिक्र नहीं करता, शायद समझा नहीं पाये या समझन

रावण जो तेरे अंदर बैठा है … | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

कागज़ों के रावण ही जलेंगे अब, एक रावण मन में भी तो बैठा है ! द्वेष नफरत खिली चेहरे पर, त्योहारों पर पहरा बैठा है ! सीख भजन की दब गयी कहीं, य

कलम है तो चेतना लिखें …. | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

लेखकों के पुरस्कार लौटाने की परम्परा से असहमत हूँ ; आप समाज और सरकार से असंतुष्ट होने पर बस अपना पुरस्कार लौटा अपनी जिम्मेदारी से भाग रहे ;

Manjusha Art – My New Initiative as a Folk Artist | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

जीवन में एक अवसर मिला अपने राज्य और क्षेत्र के सांस्कृतिक धरोहर को समझने का और उसके लिए कार्य करने का ; एक छोटा सा प्रयास कर रहा हूँ अपने आस

Come and Join Shaurya GYM; I would like to recommend it to all peoples of Bhagalpur. you will find latest equipments and perfect ambiance for your workout. Flexible timing available so no need to worry about your timing problem.
Public - a year ago
reviewed a year ago
2 reviews
Map
Map
Map