Profile

Cover photo
Sujit Kumar Lucky
Works at TechAliens
Attended A R D Saraswati Vidya Mandir Bhagalpur
Lives in Delhi
2,071 followers|671,414 views
AboutPostsPhotosYouTube+1'sReviews

Stream

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 
राजधानी के जनपथ रोड पर धन रोपनी कीजयेगा तो कादो पानी से भरे खेत में किसान क्या क्या सहता होगा नहीं पता चलेगा ! लैपटॉप की स्लाइडशो में लालटेन की रौशनी में खेत का रस्ता कैसा दीखता इ पता नहीं चलेगा ! खेत में सुता हुआ फसल भी वॉलपेपर नजर आएगा !! 

याद है Prabhat (चौधरी जी ) केला खेत में पानी घुस गया था तो २ रुपया खानी बेचे थे एक साल ! आलू चिप्स को पैकेट में हवा के साथ लहरिया दे तो वो प्राइवेट लिमिटेड ब्रांड और जो धरती को चीड़ के पुरे देश के लिए निवाला निकालें वो भी किसी वैज्ञानिक से तो कम नहीं ; 

जब तक कृषि और कृषकों के लिए नजरिया नहीं बदलेगा इ बाढ़ सुखाड़ में पोट्रेट पेन्टिंग और वॉलपेपर ही नजर आयेगा !!   ☔
 ·  Translate
4
1
Nishant Yadav's profile photo
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

बातचीत  - 
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
1
nitesh meshram's profile photo
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

Shared publicly  - 
 #SK
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है ! इन सब आपाधापी में खुद से रूबरू होना हम भूल जाते ; कभी टटोलिये अपने मन को कितनी गांठें पड़ी है वहाँ ; कितनी ही गिरहें सिलवटें उभरी है वहाँ ! - A walk on night, a great meet with yourself ! #SK
 ·  Translate
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
yugam jaitly's profile photoSujit Kumar Lucky's profile photo
2 comments
 
thanks
Add a comment...

Communities

29 communities
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...

Sujit Kumar Lucky

ब्लॉग-पोस्ट  - 
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...
 
कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का हिस्सा है !
1
Add a comment...
People
Have him in circles
2,071 people
Bonnie Burns's profile photo
Jahaj Mandir's profile photo
Suman Kumar's profile photo
Hrishikesh kumar Pathak's profile photo
Subrata Banik's profile photo
Anubhav Pathak's profile photo
Melissa Fowler's profile photo
amit shrivastava's profile photo
Naveen Rajput's profile photo
Communities
29 communities
Education
  • A R D Saraswati Vidya Mandir Bhagalpur
    School, 1995 - 2001
  • Marwari College, Bhagalpur
    10+2, 2001 - 2003
  • TMBU
    B.COM, 2003 - 2007
  • Sikkim Manipal University
    MCA, 2007 - 2010
Basic Information
Gender
Male
Looking for
Friends, A relationship, Networking
Other names
सुजीत भारद्वाज
Story
Tagline
सुजीत भारद्वाज - Web Analyst, Blogger, SEM/SEO/SMO Professional , Writer, Poet
Introduction
In between Subtle fate I am avid for my dreams & Desire... Always tried to become a reason of someone smile... First you will observe me as Stubborn Mind, hard headed... once attached with me your perception change.  Not Born to Write but write to be alive... live in a parallel universe of my words where my words inspire me, talk to me. See every moment’s n memories with my poetic eyes. A mentor, friend, all time life seeker meet with me @ - sujitkumar.in 

Sujit Kumar Lucky from India involves in search and digital marketing... My Web Affection inspires me to make a Innovative web Experience. Putting imagination of web trends in work is my passion. I always accepted my successes, mistakes and failure it admires me to rethink about me. Although I found myself as friendly, emotional sensitive person and person who want to help others. I am a versatile person who colors his life with several colors... and always enjoying this beautiful Rainbow of life.I Believes in “Do Before You Die”.  here for SEO, SMO, Friendship , share Hindi poems thoughts feelings and much more enjoy.. ! !

"अपने विचारों में खोया रहने वाला एक सीधा संवेदनशील व्यक्ति हूँ. बस बहुरंगी जिन्दगी की कुछ रंगों को समेटे टूटे फूटे शब्दों में लिखता हूँ . "यादें ही यादें जुरती जा रही , हर रोज एक नया फलसफा जिन्दगी का, पीछे देखा तो एक कारवां सा बन गया ! ! (सुजीत भारद्वाज) "
Bragging rights
Tech Enthusiasts From India , A Poet , Writer, Thinker !
Work
Occupation
Web Analyst, Blogger, SEO/SMO Professional , Writer
Skills
SEO, SMO, SEM, Google Analytics, Design, Development, Blogger, Google Analytics & Google Adword Certified Professional
Employment
  • TechAliens
    Web Analyst/Blogger, 2011 - present
    Author of www.techaliens.com [Blogging About Technology, SEO, SMO, Mobile] and Share research work with Friends and community !
  • Earmark E Services Pvt. Ltd.
    Digital Marketing Head, 2013 - 2013
    New Venture of Life to serve myself as A Motivator for Team, A Tech enthusiast. Establish Search and Social marketing strategy for company and clients. Also time to time share expertise on Blogs.
  • Go Heritage India Journeys Pvt.Ltd
    Team Leader ( Digital Marketing), 2010 - 2013
    Team Leader of Internet Marketing Team, Work profile includes: - Go Heritage India Journeys Travel Portal & Its 45 + Vertical Sites. - Team Work Assignments and Reporting, Interaction with Design, Development, Content Teams for New Projects and Work Managements, Business & ROI - Appreciation : Best Employee of the month, Team motivator & performer Rewards
  • vAngelz Technologies
    Senior SEO/SMO, 2010 - 2010
    Leveraging Career in Search and Social Media on Mobile Price Comparison Portals of V-angelz technology projects.
  • Weblogics Corporation
    Senior SEO, 2008 - 2009
    Kick start career in Field of Internet marketing learn lot - shape myself in field of SEO, SMO, ORM.. ! Thanx for Company members and directors to give me chance to work here !
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Delhi
Previously
Bhagalpur, Bihar - Bhagalpur>>Bihar>>Delhi>>??
Contact Information
Home
Email
Work
Email
Sujit Kumar Lucky's +1's are the things they like, agree with, or want to recommend.
बदले गये हो तुम !
www.nishantyadav.in

क्या कभी आईने में अपने आप को देखा है खुद को , चेहरे को नहीं ! क्या आइना, तुम्हारे अंतर्मन को दिखा रहा है नहीं शायद ! आइना कृत्रिमता को दिखात

कभी रूबरू हो खुद से – A walk on night, a great meet with yourself ! | Su...
www.sujitkumar.in

कितनी आपाधापी है ना ; रेत की तरह फिसलती उम्र ; जद्दोजहत में सजते संवरते बिखरते सपने ; कभी रुकते से कदम तो कभी भागता मन ! ये सब हमारे जीवन का

GTALK – Inbox Love 7 | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

डायरी ही थी अपनी बातों का , मेल बॉक्स के कोने में संदेशों के प्रवाह का छोटा सा चैट बॉक्स ! हरे रंग का चिन्ह तुम्हारे होने का और आने का ; मैं

कौन सा रंग …. | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

किस रंग तुझे ढूँढू , कौन सा रंग लगाऊँ ! जिस रंग सखा तुम खोये ; उस रंग को कैसे मिटाऊँ ! तू जो फिर लौटे तो ; हर रंग में मैं रँग ही जाऊं ! तुझ

Will You Be My Friend Again ? – Inbox Love 4 | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

Sujit Kumar Lucky ( सुजीत भारद्वाज ) पतीत पावनी गंगा के पावन कछार पर अवश्थित शहर भागलपुर(बिहार ) मेरी जन्मभूमी.. वर्तमान मेरी कर्मभूमि राजधा

It will always be with me … | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

You could have come back; But you did not … After such a long time, Would be nice to meet you again … But that did not happen ! Your face wa

तमस में होता द्वार कहीं… | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

विरह वियोग संयोग है ; कुछ ऐसा ये तो रोग है ! मृग मारिचका सा क्षण है ; भ्रम टूटे बस ऐसा प्रयत्न है ! यतार्थ थे तो पास भी थे ; कृत्रिम पर अधिक

Visit to Home Town – (Photography) | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

Journey Begin …. 1011773_928829043813399_1557065829460682696_n. चकरी … बैलून … 10 रूपये का मेला । वक़्त की रफ्तार बहुत तेज है । जिन्दगी भी त

@ 1 PM – Garden of Joy !! (Photography) | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

गिलहरी .. चुपके से पैरों के आसपास आके ; कौतुहल सी करती ।। छोटे छोटे हाथों में मूँगफली को भरती; थोड़ी आहट पर डरती हुई ; फिर चुपके से फिर पास

दो बीघा धर्म … !! | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

टीवी . . अख़बार. . रेडियो. . संसद. . रोड. . बाजार. . चौक. . चौराहा. . !! देह . . दिमाग . .पेट . . सब जगह धर्म चढ़ गया है !! धर्म पोर्टेबल हो

बहुत ही धुंध हो आई इस बरस.. | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

बहुत ही धुंध हो आई इस बरस ; कई रिश्ते धुँधले से हो आये ! बेरुखी भर आयी थी जस्बातों में ; इसको कभी ना वो समझ ही पाये ! कुछ ऐसी लब्जो की बेबसी

सरहदें – Wound of Kashmir | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

दो अपनों ने मिल के उड़ाया था, कभी उस सफ़ेद कबूतर को । दो अपनों के घरों के बीच ; उसे सरहदों का क्या पता था । खुली आसमानों और हवायें दोनों तरफ

आत्मा है खाली हाथ (A Soul with Empty Hand ) .....
myfeelinginmywords-nishantyadav.blogspot.com

परमार्थ का स्वार्थ से मेल क्या है ! सत्य का असत्य से भला नाता कैसा ! इन सब तुलनाओं के बीच ! एक सत्य है जीवन और मृत्यु का होना ! जीवन का मृत्

TechAliens
plus.google.com

TechAliens - Reinventing Digital Thoughts !

Google India
plus.google.com

Updates and news from Google India

Your Little Face …. Poem for Little One !! | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

Your little face ;. Like a flower in the morning ;. You might recognize me from afar ;. When I see you,. as hiding your head in the lap of t

फिर देर से ..Late again when I get home !! | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

फिर देर से .. दिन ही नहीं रात गुमशुदा सा लगता है ; ये जिंदगी की कैसी किश्तें अदा कर रहे ; वो जो मायूस सा सहयात्री है अजनबी ही है ; पर उससे ए

गिरह – Knot of Life : #Night & #Pen ! | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

गिरह ऐसी भी नहीं थी की टूट जाती, हाँ कुछ बन्धन जो वक्त, मायूसी, खामोशी के थे ..सब आजाद है अब ! मैं इस इल्जाम का इतना भी हक़दार नहीं हूँ, ना

ख़ामोशी को लौटते देखा … Quietness Returns | Sujit Kumar Lucky
www.sujitkumar.in

किसी ख़ामोशी को लौटते देखा है ; वैसे ही लिबास में ; पुराने लिबास में । हाँ सजे संवरे .. बिना किसी आहट के ; फिर नजरों के सामने पुनः । हाँ महस

List of various apartment, In Rome great to stay for short and long term in these apartments, this mode of rental really cheapest for travelers who come to Rome for vacation, holiday or any MICE purpose !!
Public - a year ago
reviewed a year ago
Dedicated team of tech professionals to avail all digital needs !
Public - 2 years ago
reviewed 2 years ago
3 reviews
Map
Map
Map