Profile

Cover photo
Padmasambhava Shrivastava
Attended Patna College, Patna University
Lived in Patna, Bihar
1,232 followers|93,024 views
AboutPostsPhotosVideos+1's

Stream

 
सेल्फी लेने के दौरान लापरवाही बरतना या ज्यादा जोखिम उठाना कितना खतरनाक हो सकता है, इसका पता...
2
 
मोबाइल डेटा जल्दी खत्म हो जाता है? तो गूगल आप ही के लिए लेकर आया है नया फीचर जिससे आप बचा सकेंगे 70% तक मोबाइल डेटा...
1
 
पियावसंत की खोज’ आज की एक ज्वलंत समस्या ‘दहेज प्रथा’ पर लिखा गया यथार्थवादी उपन्यास है। इस प्रथा के संदर्भ में यह उपन्यास लिखकर लेखक ने सामयिक धन्यता के क्षण बटोरने का प्रयास न कर तटस्थतावादी दृष्‍टिकोण अपनाया है, किंतु इसका यह अर्थ नहीं कि स्थितियों से उत्पन्न हो रही सामाजिक न्याय-अन्याय की प्रवृत्तियों के प्रति वह निर्लेप रहा है। निर्लेप होता तो इस ज्वलंत प्रश्‍न को स्पर्श ही नहीं करता।
उपन्यास में लेखक का तटस्थतावादी दृष्‍टिकोण प्रारंभ से अंत तक समाजशास्‍‍त्रीय प्रतिनिधि बनकर उभरा है। इसी कारण उसने कन्याओं के अभिभावकों की मनःशिराओं में बह रही दुहरी विचारधारा को विभिन्न चित्रों में रूपायित किया है और उन चिह्नों के व्याज से अपनी औपन्यासिक चिंतनसत्ता को सार्थक बनाने में अपनी पूर्वस्वीकृत समस्त विशिष्‍टताओं के साथ पाठकों के समक्ष प्रस्तुत हुआ है।
इस कृति में जहाँ ढलती हुई उम्र की अविवाहिताओं के प्रति लेखक की वेदना उभरी है, वहीं उसका न्यायाधीश का हृदय भी सजग रहा है कि समर्थ अभिभावक भी कन्याओं के देने के नाम पर बनावटी निढालपन का परिचय देते हैं। अतः दहेज प्रथा पर लिखा गया यह उपन्यास एक फैशन के रूप में नहीं बल्कि तथ्यपरकता का वह शीशा है, जो वादी-प्रतिवादी, दोनों को बेनकाब करता है। आशा है, इसी सामाजिक बोध के साथ यह उपन्यास पढ़ा जाएगा और समादृत होगा।
 ·  Translate
1
 
 
New study by researchers in India has discovered that Purkinje cells (link is external) in the cerebellum toggle between a silent "down" state and a bursting "up" state. The September 2015 study, “AMPA Receptor Mediated Synaptic Excitation Drives State-Dependent Bursting in Purkinje Neurons of Zebrafish Larvae (link is external),” was published in eLife.
Using a revolutionary technique, Mohini Sengupta and Vatsala Thirumalai, from the National Centre for Biological Sciences (NCBS) in Bangalore, found that Purkinje cells send out electrical signals in two different modes depending on the voltage at their cell surfaces.The first mode, called the "down" state, occurred when the inside of the cell was more negative compared to the outside. In this state, cells were silent until signals from a different part of the brain arrived, at which time, they sent out a burst of impulses.
In the second mode, called the "up" state, the inside of the cell was less negative compared to the outside and Purkinje cells sent out bursting impulses at a constant rate. In this mode, these cells ignored any impulses coming from other parts of the brain.
The team at NCBS conducted their research on young zebrafish which are transparent because they haven't yet developed a skull. The researchers were able to make specific Purkinje cells in these fish glow by injecting DNA into them.
"Whatever the Cerebellum Is Doing, It's Doing a Lot of It."The cerebellum (link is external) (Latin for "little brain") was identified by Leonardo da Vinci in 1504 when he made wax castings of the human brain. Traditionally, the cerebellum is considered to be the seat of balance, proprioception, and the fine-tuning of motor skills such as serving a tennis ball, riding a bicycle, or playing the piano.The latest findings from NCBS indicate that Purkinje cells receive a copy of the instructions sent to muscles and then generate a burst of impulses in response. The researchers believe that the existence of the 'up' and 'down' states is a mechanism that allows Purkinje cells to 'choose' whether to listen in on such instructions or to ignore them.
Conclusion: Purkinje Cells and the Cerebellum Deserve the SpotlightThe cerebellum and Purkinje cells remain enigmatic. It's important that researchers continue to receive funding to develop better brain imaging methods and experiments that will advance our understanding of Purkinje neurons and the cerebellum in the future.
View original post
1
 
New study by researchers in India has discovered that Purkinje cells (link is external) in the cerebellum toggle between a silent "down" state and a bursting "up" state. The September 2015 study, “AMPA Receptor Mediated Synaptic Excitation Drives State-Dependent Bursting in Purkinje Neurons of Zebrafish Larvae (link is external),” was published in eLife.
Using a revolutionary technique, Mohini Sengupta and Vatsala Thirumalai, from the National Centre for Biological Sciences (NCBS) in Bangalore, found that Purkinje cells send out electrical signals in two different modes depending on the voltage at their cell surfaces.The first mode, called the "down" state, occurred when the inside of the cell was more negative compared to the outside. In this state, cells were silent until signals from a different part of the brain arrived, at which time, they sent out a burst of impulses.
In the second mode, called the "up" state, the inside of the cell was less negative compared to the outside and Purkinje cells sent out bursting impulses at a constant rate. In this mode, these cells ignored any impulses coming from other parts of the brain.
The team at NCBS conducted their research on young zebrafish which are transparent because they haven't yet developed a skull. The researchers were able to make specific Purkinje cells in these fish glow by injecting DNA into them.
"Whatever the Cerebellum Is Doing, It's Doing a Lot of It."The cerebellum (link is external) (Latin for "little brain") was identified by Leonardo da Vinci in 1504 when he made wax castings of the human brain. Traditionally, the cerebellum is considered to be the seat of balance, proprioception, and the fine-tuning of motor skills such as serving a tennis ball, riding a bicycle, or playing the piano.The latest findings from NCBS indicate that Purkinje cells receive a copy of the instructions sent to muscles and then generate a burst of impulses in response. The researchers believe that the existence of the 'up' and 'down' states is a mechanism that allows Purkinje cells to 'choose' whether to listen in on such instructions or to ignore them.
Conclusion: Purkinje Cells and the Cerebellum Deserve the SpotlightThe cerebellum and Purkinje cells remain enigmatic. It's important that researchers continue to receive funding to develop better brain imaging methods and experiments that will advance our understanding of Purkinje neurons and the cerebellum in the future.
1
1
 
अभिव्यक्ति की आज़ादी और मर्यादित लेखन
उच्चतम न्यायालय ने हाल ही में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बरकरार रखने
वाला एक ऐतिहासिक फैसला दिया है। अपने इस फैसले के जरिए न्यायालय ने साइबर
कानून की धारा 66 (ए) निरस्त कर दी है, जो सोशल मीडिया पर कथित अपमानजनक
सामग्री डालने पर पुलिस को किसी भी शख्स को गिर...
 ·  Translate
उच्चतम न्यायालय ने हाल ही में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बरकरार रखने वाला एक ऐतिहासिक फैसला दिया है। अपने इस फैसले के जरिए न्यायालय ने साइबर कानून की धारा 66 (ए) निरस्त कर दी है, जो सोशल मीडिया पर कथित अपमानजनक सामग्री डालने पर...
1
Have them in circles
1,232 people
Hamni Bhojpuriatv's profile photo
samara veera's profile photo
Akhilesh Upadhyaya's profile photo
Albela Khtari's profile photo
Kishor Mahalle's profile photo
joyce james's profile photo
Ramawatar Agrawal's profile photo
Ramesh Rajdar's profile photo
MOHAN TIMES's profile photo
 
निर्भया कांड की हर बरसी पर हम और आप खुद से एक ही सवाल करते हैं कि तब से अब तक बदला क्या? क्या औरतों की सुरक्षा को लेकर वो डर कम हुआ जिसने 16 दिसंबर 2012 के बाद हममें से कइयों को सड़कों पर उतरने पर मजबूर कर दिया था?
 ·  Translate
वो रात इंसानियत के सीने पर एक भारी पत्थर की तरह हमेशा चुभती रहेगी। मानवीयता के दामन पर एक काले धब्बे की तरह हमें मुंह चिढ़ाती रहेगी। वो रात न कभी भुलाई जा सकती है, न कभी उसका कलंक मद्धम पड़ सकता है। उसका बस मातम मनाया जा सकता है। मातम उस व्यवस्था का भी जो उस जुर्म का गवाह बना और जिसके सामने 16 दिसंबर और उसके बाद न जाने कितनी निर्भयाओं के नसीब में ज़लालत का दर्द लिखा गया।
3
Laurela Garzin's profile photo
 
https://www.youtube.com/watch?v=wHAuT6DyG4Q 2015 2016
Listen,Watch,Comment,Like-Dislike,Sub Her channel!

 
क्‍या यह माना जाए की बिहार की नई नीतीश-तेजस्वी सरकार ने अपने कामकाज की ठोस शुरुआत कर दी है। सरकार में हो रही हलचल को इस रूप में देखा जा सकता है। हालांकि यहां ठोस शुरुआत का मतलब यह है कि नई सरकार ने दलितों और पिछड़े वर्गों को प्राथमिकता देने का काम शुरू कर दिया है। आपको बता दें कि नई सरकार के गठन में इसी वर्ग का खासा योगदान रहा था। ठोस शुरुआत का संकेत सरकार ने महाधिवक्ता की नियुक्ति के रूप में दिया है। पहले यह माना जा रहा था कि इस अहम पद पर नियुक्ति को लेकर नीतीश व लालू के बीच टकराव होगा। वजह यह कि नीतीश कुमार अपने विश्वासपात्र पीके शाही को यह जिम्मेवारी देना चाहते थे। लेकिन लालू प्रसाद शाही के पक्ष में नहीं थे। आपको बता दें कि राजनीतिक गलियारे में यह पद काफ़ी अहम माना जा रहा था। लालू चाहते थे कि महाधिवक्ता और उनकी टीम में दलित और पिछड़े शामिल हों। इस अहम सवाल का महत्व का अनुमान इसी से लगाया जा सकता है कि बीते सोमवार को लालू प्रसाद उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव के साथ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सरकारी आवास पहुंचे और उनके साथ विचार-विमर्श किया। नई सरकार के लिए सामाजिक न्याय कितना महत्वपूर्ण है, यह फ़ैसला एक लिटमस टेस्ट के जैसा था। इस टेस्ट में नई सरकार सफ़ल को सांकेतिक रूप से सफल माना जा सकता है। लालू-नीतीश ने मिलकर रामबालक महतो को महाधिवक्ता पद की जिम्मेवारी दी। हालांकि इससे पहले भी वे राज्य के महाधिवक्ता थे। लेकिन तब हालात दूसरे थे। तब पीके शाही राज्य सरकार में कैबिनेट मंत्री थे और राज्य की न्यायिक व्यवस्था में उनकी अहम भूमिका थी। अब वे सरकार हाशिए पर हैं। ऐसे में राम बालक महतो का महाधिवक्ता बनाया जाना खासा महत्वपूर्ण है। बहरहाल, सवाल केवल महाधिवक्ता की नियुक्ति का नहीं है। महाधिवक्ता की टीम में लालू प्रसाद के विश्वासपात्र व वरिष्ठ अधिवक्ता सूर्य नारायण यादव को भी शामिल किया गया है, जो यह साबित करने के लिए काफ़ी है कि राज्य सरकार के इस अहम निर्णय में लालू प्रसाद की भूमिका कितनी महत्वपूर्ण है। आने वाले समय में सरकार के इस निर्णय का दूरगामी प्रभाव देखने को मिल सकते हैं। वजह यह कि पिछली सरकार के समय कई ऐसे फ़ैसले आए थे, जिनसे सामाजिक न्याय पर प्रतिकूल असर पड़ा था। इनमें विभिन्न नरसंहारों का फ़ैसला भी शामिल है, जिनके आरोपियों को साक्ष्य के अभाव में बरी कर दिया गया था। बहरहाल, अब देखना यह है कि लालू की पसंद के महाधिवक्‍ता चुनने में नीतीश की रजामंदी के कितने अप्रत्‍यक्ष और प्रत्‍यक्ष फायदे हैं। जाहिर है यह सियासी गणित है इसमें कोई भी फैसला हित परहित को नजर अंदाज किए बिना नहीं लिया जाता।
 ·  Translate
1
 
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने बिहार चुनाव को जीतने के लिए अपनी पूरी ताकत लगा थी। भारत के राजनीतिक इतिहास में शायद यह पहला मौका था जब किसी प्रांतीय चुनाव में कोई प्रधानमंत्री 40 से अधिक चुनावी सभाएं की हो। मोदी की पूरी कैबिनेट, भाजपा के 50 सांसद और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के हजारों कार्यकर्ता बिहार के चुनावी मैदान में दिन रात सक्रिय रहे। कुल मिलाकर मोदी ने बिहार के इस चुनाव को नीतीश बनाम मोदी का मुकाबला बना दिया था। फिर भी चुनाव हार जाना भाजपा के लिए यक्ष प्रश्न जैसा लगता है।
 ·  Translate
बिहार में नीतीश-लालू-कांग्रेस के महागठबंधन की प्रचंड जीत दर्ज करने के साथ ही भाजपा-एनडीए के अंदर और बाहर इस बात पर मंथन शुरू हो गया है कि जिस पार्टी में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जैसा प्रखर वक्ता हो, अमित शाह जैसा चुनाव रणनीति बनाने वाला चाणक्य हो और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कार्यकर्ताओं की फौज हो, उसकी इतनी बड़ी हार, कहें तो शर्मनाक हार कैसे हो गई। लोकतंत्र में हार और जीत एक सिक्के के दो पहलू होते हैं। किसी एक गठबंधन को तो हारना ही था सो भाजपा...
1
1
People
Have them in circles
1,232 people
Hamni Bhojpuriatv's profile photo
samara veera's profile photo
Akhilesh Upadhyaya's profile photo
Albela Khtari's profile photo
Kishor Mahalle's profile photo
joyce james's profile photo
Ramawatar Agrawal's profile photo
Ramesh Rajdar's profile photo
MOHAN TIMES's profile photo
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Previously
Patna, Bihar - PATNA - ARUNCHAL PRADESH - MORADABAD, UTTAR PRADESH - CHENNAI, TAMILNADU - SASUN DOCK, MUMBAI, MAHARASTRA
Padmasambhava Shrivastava's +1's are the things they like, agree with, or want to recommend.
कोई ‘पुरुष उत्पीड़न’ कहे, तो हंसियेगा मत..
mediadarbar.com

महिलाओं द्वारा उत्पीड़न कानूनों का पुरुषों के खिलाफ दुरुपयोग तेज़ी से बढ़ रहा है। ये महिलाओं के सचमुच हो रहे शोषण और उत्पीड़न के मामलों को भी कम

Google (3)
www.google.co.in

Celebrating India's Republic Day 2016 #GoogleDoodle

Piyavasant Ki Khoj
books.google.co.in

books.google.co.in - ‘पियावसंत की खोज’ आज की एक ज्वलंत समस्या ‘दहेज प्रथा’ पर लिखा गया यथार्थवादी उपन्यास है। इस प्रथा के संदर्भ में यह...

मेरठ में मिनी टेलीफोन एक्सचेंज का भांडाफोड़
khabar.ibnlive.in.com

अमेरिका के राष्ट्रपति बराक ओबामा के भारत दौरे से कुछ ही दिन पहले दिल्ली से सटे मेरठ में एक बेहद रहस्यमय मिनी टेलीफोन एक्सचेंज का भंडाफोड़ हुआ

aha zindagi facebook story - www.bhaskar.com
padmasambhavakiduniya.blogspot.com

वाह.. वाह.. लाइक.. रात-दिन चमचमाते बाजार। रात के एक बजे भी आप इस बाजार से गुजर जाइए तो रौनकें आपको आवाजें देंगी। आपके कदम ठिठक जाएंगे। कभी त

साहित्य की अलग विधा क्यों नहीं बन सकी ब्लॉगिंग?
padmasambhavakiduniya.blogspot.com

साहित्य की अलग विधा क्यों नहीं बन सकी ब्लॉगिंग?

शख्सीयत: जमींदार घराने से समाज सेवा तक
padmasambhavakiduniya.blogspot.com

आंध्र प्रदेश स्थित राजापेट रियासत के जागीरदार राजा जगपाल राव के घर जन्मीं रुक्मिणी राव की पहचान आज देश-विदेश में महिलाओं और बच्चियों के हक क

Jagtar Singh Tara escapes net of Indian intelligence agencies, claims Me...
sikhsiyasat.net

Belgium: A news released by journalist Pargat Singh Jodhpuri says Khalistan Tiger Force (KTF) chief Jagtar Singh Tara was able to break the

नायक जिसे बिहार ने बिसरा दिया|निराला
tehelkahindi.com

आज एक संन्यासी की जयंती है. एक ऐसे संन्यासी की जो कमंडल और गेरुआ धारण कर नहीं, बल्कि सत्याग्रह के बल पर संन्यासी बना था. इस सत्याग्रही संन्य

Five intelligence agency personnel die in Sahiwal road accident
www.dawn.com

The officers were reportedly coming back from a intelligence agency officer’s funeral in Raiwind.

the bionic boys: इंडिया टुडे: आज तक
aajtak.intoday.in

ह्रितिक रोशन के हाइ चीकबोन्स. जॉन अब्राहम-सा सीना... परफेक्ट लुक के लिए कॉस्मेटिक सर्जरी की राह अपना रहे युवा

मर चुके हैं आशुतोष महाराज या समाधि में? - Navbharat Times
navbharattimes.indiatimes.com

आशुतोष महाराज को डॉक्टरों ने छह दिन पहले मृत घोषित कर दिया था लेकिन उनके सेवादार कह रहे हैं कि वह गहरी समाधि में लीन हैं....

हे भगवान, आखिर कब तक बेचोगे सामान?
blogs.navbharattimes.indiatimes.com

तमाम तर्क-वितर्क और विरोध बेमानी साबित हुए। आखिरकार क्रिकेट के भगवान सचिन तेंडुलकर अब अधिकारिक रूप से 'भारत रत्न' हो ही गए। उन्हें 'भारत रत्

Fine Art Photography India
plus.google.com

To make art a part of our daily behaviour.

सुनंदा पुष्करः एक उलझा मसला
blogs.navbharattimes.indiatimes.com

सुनंदा पुष्कर की मौत ने सबको सदमे में डाल दिया है। मौत की वजह पता नहीं चल सकी है, मगर दो दिन पहले किए गए उनके ट्वीट्स से जाहिर होता है कि वह

Big Brother is watching you
www.thehindu.com

India has no requirements of transparency whether in the form of disclosing the quantum of interception or in the form of notification to pe

नयी उम्मीदें जगा कर विदा हो रहा साल | PrabhatKhabar.com : Hindi News Por...
www.prabhatkhabar.com

भाजपा में मोदी का आगमन पार्टी के पुराने हिंदुत्व का उदय नहीं, बल्कि नौजवानों की उम्मीदों का जागना है. वही नौजवान, जो मोदी का समर्थक है, ‘आप’

Swedish Intelligence Service Spying on Russia for US National Security A...
www.globalresearch.ca

Documents released by Edward Snowden reveal that Sweden’s National Defence Radio Establishment (FRA) has been collecting large quantities of