मर्जी से जीने की बस ख्वाहिश की थी मैंने, 
और वो कहते हैं कि खुदगर्ज बन गये हो तुम।
Shared publiclyView activity