फिर इश्क़ का जूनून चढ़ रहा है सिर पे, 
मयख़ाने से कह दो दरवाज़ा खुला रखे।
Translate
2
1
raman dhaka's profile photo
Add a comment...