काश... एक ख्वाहिश पूरी हो इबादत के बगैर, 
वो आकर गले लगा ले, मेरी इजाजत के बगैर।
Shared publiclyView activity