इशरत-ए-क़तरा है दरिया में फ़ना हो जाना, 
दर्द का हद से गुज़रना है दवा हो जाना।
Shared publiclyView activity