क़यामत के रोज़ फ़रिश्तों ने जब माँगा 
उससे ज़िन्दगी का हिसाब, 
ख़ुदा, खुद मुस्कुरा के बोला, 
जाने दो... मोहब्बत की है इसने।
Shared publiclyView activity