Profile cover photo
Profile photo
Hindi Lekhak
18 followers
18 followers
About
Posts

Post has attachment
चांदनी रात तेरा एहसास कराती है तेरी याद मुझको सारी रात जगाती है रोम – रोम प्रफ्फुलित मेरा इस मधुमास में सावन-भादों निकल गये तेरे आने की आस में हृदय के दरवाजे पर पल – पल दस्तक देती हो तू सपनों की रानी, पता नहीं किस देश में रहती हो ये बसंती हवा तन-मन में ……
Add a comment...

Post has attachment
सवार चार काँधो पे होकर मेरा पता जा रहा है हुई है मौत मेरी कुछ ऐसा सुना जा रहा है भिंचे हैं होठ जो न बोलते थे इक हर्फ भी शोर उनका वो कानों तक चला आ रहा है न थी इजाज़त उस पागल झकोरे को भी माथा वो होके पागल झरोखे से अथड़ा रहा … Continue reading मेरा पता जा…
Add a comment...

Post has attachment
गोरी के गाल —————- गोरी के गाल है गये लाल जो लगा गुलाल | चटकी कमर मटकी कमर लचकी कमर | आ गया फाग चुनरी में लगा दाग छिड़ गया राग | बहके कदम टूटे धरम जो मिटी शरम | संभाल मन मंहके है तन ये अनमोल धन | – मुकेश कुमार ऋषि वर्मा गॉव … Continue reading गोरी के गाल
Add a comment...

Post has attachment
संस्कार अनिल “क्या मां आजकल बाबूजी को क्या हो गया है जब देखो वह पूनम और रवि को संस्कारों का भाषण देते रहते हैं| और घर में कोई भी रिश्तेदार या उनके मित्र आते हैं तो वह पूनम( अनिल की पत्नी) रवि (अनिल का पुत्र )को बुलाने लगते हैं, हर किसी से मिलाना या…
Add a comment...

Post has attachment
नवगीत– “मकर संक्रांति ” चिड़िया उड़ आ बैठी अँगना मांग रही खिचड़ी। तिल गुड़ लइया की सोंधी सी देख रही तिकड़ी। हरियाणा पंजाब मनाते लोहड़ी का त्यौहार समर्पित करते अग्नि देव को तिलचौली आहार। थिरक रहा बाजे के संग में प्रमुदित पारावार है फसल कटने बोने का ये…
Add a comment...

Post has attachment
: नये साल का वो सुबह सवेरा नई उमंग नए जोश में मन मेरा । मैं भी बहुत खुश था सुबह-सुबह सुन ‘हैप्पी न्यू ईयर’ का स्वर सब जगह।। सोचा नए दिन की नयी शुरुआत में, नई खबर नए ऑफर होंगे, सो जल्दी अखबार के पन्ने पलटे होंगे, मैंने भी और शायद आपने । प्रथम … Continue…
Add a comment...

Post has attachment
मैं बेटी हूँ … ================== मैं बेटी हूँ आजाद परिंदे सी मुझ को उड़ने दो जीत जाऊंगी जग से मैं जग से मुझ को लड़ने दो। मैं बेटी हूँ… मत मारो माँ मुझे कोख में मैं फूल तेरे उपवन की तेरे घर को महका दूंगी उपमा होगी नंदन वन की आजाद परिंदे की मानद कलरव ……
Add a comment...

Post has attachment
गुब्बारे ले लो गुब्बारे वाला नीले पीले हरे गुलाबी हर रंग के गुब्बारे लाया चिया, भूमि, निखिल, कन्हैया आओ बच्चों घर से निकलो शोर मचाती, चिया, निकली मां मुझको गुब्बारे ले दो लाल ले दो नीला ले दो चाहो तो सारे ही ले दो कन्हैया, बोला अपनी मां से बांसुरी फिरकनी…
Add a comment...

Post has attachment
गगन चढ़इ रज पवन प्रसंगा। की चहिं मिलइ नीच जल संगा।। साधु असाधु सदन सुक सारीं। सुमिरहि राम देहि गनि गारी।। 6. 5 . जब पवन गतिमान हो तब वह सब कुछ जो हवा के संपर्क में आता है तो सामान्य परिस्थितियों में वह ऊपर उठता है क्योंकि वो आकाश में बहुत ऊपर पहुंचता है ……
Add a comment...

Post has attachment
संघर्ष से भरी ये दुनिया चक्रव्यूह में फंसती गयी ऐसा जाल बुना रब ने जीवन चक्र में जा पहुंची चलते चलते थक सी गयी अलसायी किनारे बैठ गयी आंचल में भर गयी रागिनी सुर्यप्रभा जिसे समझ गयी नेत्रभ़म ये मुझको हुआ दिशा विपरीत मिलती गयी चलते चलते थक सी गयी अलसायी…
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded