Profile

Cover photo
Himanshu Kumar Pandey
Works at Basic Education
Attended Sakaldiha Inter College
Lives in Sakaldiha, Chandauli
2,188 followers|581,326 views
AboutPostsPhotosYouTubeReviews

Stream

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
है महाराज प्रार्थना यही ..(गीतांजलि का भावानुवाद)
Geetanjali: Tagore This is my prayer to thee, my lord- strike, strike at the root of penury in my heart. Give me the strength lightly to bear my joys and sorrows. Give me the strength to make my love fruitful in service. Give me the strength never to disown...
 ·  Translate
1
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
1
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
मैं चिट्ठाकार हूँ पर.. गिरिजेश राव जैसा तो नहीं
मैं चिट्ठाकार हूँ, पर गिरिजेश राव जैसा तो नहीं जो बने तो निपट आलसी पर रचे तो जीवन-स्फूर्ति का अनोखा  व्याकरण- बाउ । संस्कारशील गिरिजेश राव कहूँ?- शृंखलासापेक्ष, पर्याप्त अर्थसबल, नितान्त आकस्मिकता में भी पर्याप्त नियंत्रित। जो प्रकृति का शृंगार है- चाहे वह ...
 ·  Translate
3
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
3
Chāru Samvād's profile photo
 
भोजपुरी रामायण से रामायण की कुशीलव परम्परा में भोजपुरी को प्रतिनिधित्व मिल सकेगा।
सुखद साझाकरण।

बावला जी के गीतों में नवगीतों सा आस्वाद तथा जनगीतों जैसी प्रतिबद्धता का मणि-कांचन संयोग मिलता है।
 ·  Translate
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
सौन्दर्य लहरी - 16
सौन्दर्य-लहरी संस्कृत के स्तोत्र-साहित्य का गौरव-ग्रंथ व अनुपम काव्योपलब्धि है। आचार्य शंकर की चमत्कृत करने वाली मेधा का दूसरा आयाम है यह काव्य। निर्गुण, निराकार अद्वैत ब्रह्म की आराधना करने वाले आचार्य ने शिव और शक्ति की सगुण रागात्मक लीला का विभोर गान ...
 ·  Translate
सौन्दर्य लहरी (स्तोत्र ६६ से ७०) - पाणि से / वात्सल्यवश / जिसको दुलारा हिमशिखर ने / अधरपानाकुलित जिसको / किया स्पर्शित चन्द्रधर ने / मुख मुकुर के वृन्त सम / पकड़ा जिसे सविलास शिव ने / कौन वर्णन कर सकेगा / उस अमोलक / चिबुक का फि...
1
Chāru Samvād's profile photo
 
अनुवाद में स्रोतभाषा का प्रवाह नहीं उतर पाया है।आप प्रभुदयाल मिश्र का पद्यानुवाद एक बार अवश्य दृष्टिगत करें।
जगज्जननी की कृपा से आपका यह लघु-प्रयत्न 'बुध बिस्राम' के शिखर तक पहुँच सके, ऐसी मंगलाशा।
 ·  Translate
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
जाग जाये यह मेरा देश.. (गीतांजलि का भावानुवाद)
यह देश अपूर्व, अद्भुत क्षमताओं का आगार है। यहाँ जो है, कहीं नहीं है, किन्तु यहाँ जो होता दिख रहा है वह भी कहीं नहीं है। इस देश की अनिर्वच प्रज्ञा और अद्वितीय पौरुष को विस्मरण ने आकंठ आवृत कर लिया है। अपनी क्षमता को न पहचान सकने से हमारा विषद वैभव नीर कायरता...
 ·  Translate
2
Add a comment...
Have him in circles
2,188 people
Lahoul Bila Quvat's profile photo
harendra kumawat's profile photo
हंसराज सुज्ञ's profile photo
Asif Khan Silawat's profile photo
Nailesh Patel's profile photo
Mahan Bharatiya's profile photo
Niru Prajapati's profile photo
krishna poonia's profile photo
Arpana Singh  Parashar's profile photo

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
सौन्दर्य लहरी - 17
सौन्दर्य लहरी संस्कृत के स्तोत्र-साहित्य का गौरव-ग्रंथ व अनुपम काव्योपलब्धि है। आचार्य शंकर की चमत्कृत करने वाली मेधा का दूसरा आयाम है यह काव्य। निर्गुण, निराकार अद्वैत ब्रह्म की आराधना करने वाले आचार्य ने शिव और शक्ति की सगुण रागात्मक लीला का विभोर ...
 ·  Translate
2
1
praveen tripathi's profile photo
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
I just registered for early access to Canva for Work. Join the waiting list!
1
पवन कुमार पाल's profile photo
 
What is it?
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
colololo
Mauris ornare sapien in neque venenatis, ac fermentum tortor scelerisque. Integer sed ultricies magna, vitae gravida eros. Etiam sapien massa, facilisis et semper in, sollicitudin ut turpis. Donec ac mauris dignissim, pretium enim non, vulputate est. Ali...
 ·  Translate
1
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
माँ की गोद ही चैत्र की नवरात्रि है ..
एक ज्योति सौं जरैं प्रकासैं कोटि दिया लख बाती। जिनके हिया नेह बिनु सूखे तिनकी सुलगैं छाती। बुद्धि को सुअना मरमु न जानै कथै प्रीति की मैना। दिपै दूधिया ज्योति प्रकासैं घर देहरी अँगन। नवेली बारि धरैं दियना॥ -(आत्म प्रकाश शुक्ल)   नवसंवत्सर ने आनन्द भरित अँग...
 ·  Translate
नव संवत्सर के नवरात्र की एक अनूठी कसक है। भगवती का उन्मीलन रमणीयता की पालकी में होता है। क्षण-क्षण रमणीय, क्षण-क्षण नूतन, यही तो नव संवत्सर की भूमि है - क्षणे-क्षणे यन्नवतामुपैति तदैव रूपं रमणीयतायाः।
2
Add a comment...

Himanshu Kumar Pandey

Shared publicly  - 
 
 

क्या लिनेक्स पर आधारित मोबाइल फोन ज्यादा लोकप्रिय होंगे?
 ·  Translate
Best known as the open source Linux-based desktop operating system, Ubuntu is now coming to mobiles. It introduced a completely new user experience centered not around apps, but around "scopes." Wait, what?
View original post
1
Add a comment...
People
Have him in circles
2,188 people
Lahoul Bila Quvat's profile photo
harendra kumawat's profile photo
हंसराज सुज्ञ's profile photo
Asif Khan Silawat's profile photo
Nailesh Patel's profile photo
Mahan Bharatiya's profile photo
Niru Prajapati's profile photo
krishna poonia's profile photo
Arpana Singh  Parashar's profile photo
Education
  • Sakaldiha Inter College
    Science, 1995 - 1997
  • Banaras Hindu University
    Language, 1997 - 2002
  • Puducherry University
    Language, 2002 - 2004
Basic Information
Gender
Male
Other names
Himaanshu
Story
Tagline
"बना कर फकीरों का हम भेष ग़ालिब / तमाशाए अहले करम देखते हैं।"
Introduction
मैं क्या हूँ ? क्या सुनहली उषा में जो खो गया, वह तुहिन बिन्दु या बीत गयी जो तपती दुपहरी उसी का विचलित पल; या फिर जो धुँधुरा गयी है शाम अभी-अभी उसी की उदास छाया ? मैं क्या हूँ ?  जो सम्मुख हो रही है इस अन्तर-आँगन में वही ध्वनि, या किसी सुदूर बहने वाली किसी निर्झर-नदी का अस्पष्ट नाद ? मैं क्या हूँ ? बार-बार कानों में जाने अनजाने गूँज उठने वाली किसी दूरागत संगीत की मूर्छित लरी या फिर जिस आकाश को निरख रहा हूँ लगातार, उस आकाश का एक तारा ? मैं क्या हूँ ? - जानना इतना आसान भी तो नहीं !
Work
Occupation
Teacher
Skills
creative writing, translation, blogging
Employment
  • Basic Education
    Teacher, 2010 - present
  • Sakaldiha P.G.College
    Lecturer, 2007 - 2010
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Sakaldiha, Chandauli
Appeal: ExcellentFacilities: Very GoodService: Very Good
Public - 2 years ago
reviewed 2 years ago
1 review
Map
Map
Map