Profile cover photo
Profile photo
डॉ. कौशलेन्द्रम
291 followers -
कहने को कुछ ख़ास नहीं -----------अभी तक विद्यार्थी हूँ ------- आँखें खुली हैं इसलिए थोड़ा बेचैन रहता हूँ . अलग पगडंडी पर चलना अच्छा लगता है. शेष धीरे-धीरे आपको पता चल ही जाएगा --------न भी पता चले तो क्या फर्क पड़ता है ? बस, आइना साफ़ रहे --------यही प्रयास रहेगा . जय हिन्दी ..जय भारत ...जय आर्यावर्त...
कहने को कुछ ख़ास नहीं -----------अभी तक विद्यार्थी हूँ ------- आँखें खुली हैं इसलिए थोड़ा बेचैन रहता हूँ . अलग पगडंडी पर चलना अच्छा लगता है. शेष धीरे-धीरे आपको पता चल ही जाएगा --------न भी पता चले तो क्या फर्क पड़ता है ? बस, आइना साफ़ रहे --------यही प्रयास रहेगा . जय हिन्दी ..जय भारत ...जय आर्यावर्त...

291 followers
About
Posts

Post has attachment
हाइकु के साथ मोमो ही चलेगा
उनकी ज़िद थी कि हाइकु सुना के मानेंगे... हमने हाँ कह दी , वे सुनाने लगे... जब तक हम समझ पाते हाइकु का ओर-छोर हाइकु ख़त्म हो गयी।   हमसे शिकायत करने लगे लम्बा आलाप सुनने के अभ्यस्त हमारे ही कान “यह क्या मज़ाक है मियाँ!” हमने अपनी गुवाहाटी वाली दादी जी से पूछा य...
Add a comment...

Post has attachment
एक और द्वारिका
होते रहें वैज्ञानिक भ्रष्टाचार शीर्ष शोध संस्थानों में निष्ठावान वैज्ञानिक लिखते रहें चिट्ठी प्रधानमंत्री कार्यालय को और फेंक दी जाय उनकी चिट्ठी कूड़ेदान में लिखकर मात्र तीन शब्द... “No Action Required” तो सहम जाता है राष्ट्रवाद और इस गुर्राहट से उत्साहित वि...
Add a comment...

Post has attachment
अमृत नहीं रहा अब दूध
एक
समय था जब गोदुग्ध को अमृततुल्य माना जाता था । राजा दिलीप को जब संतान के
आवश्यकता हुई तो उन्होंने (पत्नी अरुंधती के साथ) कुलगुरु की आज्ञा से नंदिनी नामक
गाय की जंगल में जाकर सेवा की । गाय के निरंतर सम्पर्क में रहने और पंचगव्य का
सेवन करने से उन्हें यथासमय...
Add a comment...

Post has attachment
Sex sorted semen
राष्ट्रीय गोकुल मिशन के अंतर्गत बछिया के लिए Sex sorted semen का उत्पादन
सितम्बर माह से ऋषिकेश में प्रारम्भ हो चुका है । पूरे देश में इस तरह के दस और
उत्पादन केंद्र खोले जाने की प्रक्रिया प्रारम्भ कर दी गयी है । 1970 में विकसित हुयी इस तकनीक से एक्स और वाय
...
Add a comment...

Post has attachment
सबरमलय
नागेन्द्र साय  नवम्बर 2018 की एक सुबह उत्कल प्रांत के रायगढ़ा
नगर की एक गली में मेरी भेंट होती है नागेंद्र साय से । रायगढ़ा में काले परिधान और
माथे पर चंदन का लेप लगाये कई लोगों को आते-जाते देखा तो मैं अपनी उत्सुकता रोक नहीं
सका । मैं एक छोटी सी दुकान में पहु...
सबरमलय
सबरमलय
bastarkiabhivyakti.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
अंतर्जाल पर पुस्तकालय
नॉटनल वाले नीलाभ श्रीवास्तव अंतर्जाल पर लाए हैं ई.पुस्तकालय
। इस पुस्तकालय में वार्षिक शुल्क के आधार पर मनचाही पुस्तकें पढ़ी जा सकेंगी । अब पहले
की तरह हर पुस्तक के लिए अलग-अलग शुल्क नहीं देना होगा यानी बारम्बार पेमेंट का झंझट
समाप्त । नीलाभ हिंदी साहित्य के...
Add a comment...

Post has attachment
Add a comment...

Post has attachment
उपहार
प्राथमिक विद्यालय में पढ़ते समय सुरसती को एक
दिन यह पता चला कि उसका जन्म छोटी जाति में हुआ है और इसीलिए उसे कुछ ऐसी सुविधाओं
की पात्रता है जिनके लिए उसी विद्यालय में पढ़ने वाले ऊँची जाति के लोगों को नहीं
है । सुविधाओं का यह उपहार विश्वविद्यालयीन शिक्षा और उसक...
Add a comment...

Post has attachment
संविधान
रुक जाएं , नदियों से कह दो बहने से पहले संविधान बन जाने दो । उगे नहीं , सूरज से कह दो उगने से पहले संविधान बन जाने दो । संविधान से श्रेष्ठ नहीं कोई नियामक सत्ता अणुओं , ग्रहपिण्डों , नक्षत्रों से कह दो भौतिक धर्म निभाने से पहले संविधान बन जाने दो । भारत का ...
Add a comment...

Post has attachment
अलिखित प्रतिसंविधान
-कई बार सुसाइडल नोट संघर्ष का वह अंतिम तरीका
होता है जिसके बल पर कोई आत्महत्या करने वाला मृत्यु के बाद भी अपने संघर्ष को
न्याय मिलने की आशा से जारी रखना चाहता है । ...किंतु यह अंतिम उपाय भी यदि
भ्रष्टाचार की भेंट चढ़ जाय तो इसे सभ्य समाज की क्रूरष्ट धृष्टता ...
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded