Profile cover photo
Profile photo
भारत-दर्शन: न्यूज़ीलैंड से ऑनलाइन हिंदी साहित्यिक पत्रिका
140,091 followers
140,091 followers
About
Posts


कविता मानवता की उच्चतम अनुभूति की अभिव्यक्ति है। - हजारी प्रसाद द्विवेदी।
Add a comment...

Post has attachment
23 मार्च 'भगतसिंह, सुखदेव व राजगुरू' का बलिदानी-दिवस होता है। उन्हीं की समृति में 'भारत-दर्शन' पर शहीदी-दिवस को समर्पित विशेष सामग्री प्रकाशित की गई है।

https://www.bharatdarshan.co.nz/magazine/articles/131/shaheed-diwas.html
Add a comment...

Post has attachment
1963 में ‘मोर’ को भारत का राष्ट्रीय पक्षी घोषित किया गया।

In 1963, the peacock was declared the National Bird of India because of its rich religious and legendary involvement in Indian traditions. The criteria for this choice were many.
Photo
Add a comment...


विदेशी भाषा का किसी स्वतंत्र राष्ट्र के राजकाज और शिक्षा की भाषा होना सांस्कृतिक दासता है। - वाल्टर चेनिंग
Add a comment...

Post has attachment
"मन चंगा तो कठौती में गंगा"

माघ मास की पूर्णिमा को संत रविदास जी का जन्म हुआ था। हर वर्ष माघ पूर्णिमा को संत रविदास की जयंती मनाई जाती है।

https://www.bharatdarshan.co.nz/festival_description/136/ravidas-jayanti.html
Photo
Add a comment...

राष्ट्रभाषा हिंदी का किसी क्षेत्रीय भाषा से कोई संघर्ष नहीं है।' - अनंत गोपाल शेवड़े

राष्ट्रभाषा हिंदी का किसी क्षेत्रीय भाषा से कोई संघर्ष नहीं है।' - अनंत गोपाल शेवड़े

Post has attachment
भारतीय पत्रकारिता का उदय | 29 जनवरी

29 जनवरी भारतीय पत्रकारिता में विशेष दिन है चूंकि इसी दिन 1780 में देश के पहले समाचार पत्र हिक्की'ज़ बंगाल गजट या कलकत्ता जनरल एडवरटाइजर (Hicky's Bengal Gazette, or The Original Calcutta General Advertiser ) का कोलकाता से प्रकाशन आरंभ हुआ था।

https://www.bharatdarshan.co.nz/festival_description/165/hickeys-bengal-gazette-first-indianpaper.html
Photo

Post has attachment
[जन्म- 28 जनवरी, 1865, मृत्यु- 17 नवंबर, 1928]

आजीवन ब्रिटिश राजशक्ति का सामना करते हुए अपने प्राणों की परवाह न करने वाले लाला लाजपत राय 'पंजाब केसरी' कहे जाते हैं। लाला लाजपत राय भारत के एक प्रमुख स्वतंत्रता सेनानी थे। ये भारतीय 'राष्ट्रीय कांग्रेस' के 'गरम दल' के प्रमुख नेता थे। वह पूरे पंजाब के प्रतिनिधि थे। उनकी देशसेवा विख्यात है।

https://www.bharatdarshan.co.nz/festival_description/34/lala-lajpat-rai.html
Photo

Post has attachment
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded