Profile cover photo
Profile photo
Ankit Kadam
621 followers
621 followers
About
Posts

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment

Post has attachment
www.healthplusclinic.com.au

Hey, Like facebook page and get daily Health tips.

https://www.facebook.com/healthplusclinic.com.au
Photo
Add a comment...

Post has attachment

Post has attachment

Post has shared content
उज्जैन स्थित रहस्यमयी और चमत्कारिक श्री काल भैरव मंदिर« वापस
प्रस्तावना:
उज्जैन स्थित विश्व प्रसिद्ध ऐतिहासिक श्री काल भैरव मंदिर भारत की एक अद्भुत विरासत है जो सनातन पौराणिकता को प्रमाणित करती है। यहां विराजित श्री काल भैरव की प्रतिमा अथाह मदिरा अथवा सुरा पान करती है। मान्यतानुसार यह मदिरा पान भगवान के नैवेद्य का एक भाग है और यहां मदिरा चढाने के पीछे लोगों का भाव यह होता है कि वे अपने दुर्गुणों को भगवान के सामने छोड़ रहे हैं।
पौराणिक आरम्भ:
स्कंध पुराण के अवन्ति खंड में काल भैरव मंदिर का उल्लेख मिलता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार एक बार ब्रम्हाजी ने शंकरजी के विरुद्ध कोई वक्तव्य दे दिया था। ब्रम्हाजी के वक्तव्य से शिवजी क्रोधित हो गए और उनके त्रिनेत्र से भैरव का जन्म हुआ। भैरव ने क्रोधित होकर ब्रम्हाजी का पांचवा शीश काट दिया जिसके कारण उन्हें ब्रम्ह हत्या का पाप लग गया। भैरव के ब्रम्ह हत्या दोष के निवारण के लिए विष्णुजी ने उन्हें पृथ्वी पर विचरण करने के लिए कहा और जहां कालाग्नि मिले वहां अपने दोष का निवारण करने का सुझाव दिया। भैरव महाराज ब्रम्हाजी का कटा हुआ शीश लिए अपने काले श्वान अर्थात कुत्ते पर सवार हो धरती पर विचरण करने लगे। विचरण करते हुए अवंतिका अर्थात उज्जैन के काला अग्नि क्षिप्रा घाट पर पहुंचे जहां उन्हें शांति मिली।
विशेष तिथियां:
श्री भैरव महाराज जागरण के, जाग्रति के देवता हैं। वे क्षेत्रपाल के रूप में पूजे जाते हैं, साथ ही कुल देवता के रूप में भी भैरव की पूजा होती है। बारह मास ही काल भैरव मंदिर में देश-विदेश से आये भक्तों का तांता लगा रहता है लेकिन कृष्ण पक्ष की अष्टमी, आषाढ़ मास की पूर्णिमा (गुरु पूर्णिमा) और रविवार के दिन विशेष रूप से भैरव की पूजा का विधान है।
विलक्षणता:
श्री काल भैरव क्रोध एवं अग्नि से उत्पन्न हुए हैं इसलिए वे महाक्रोधी देवता कहलाते हैं किन्तु परम दयालु और क्षण में प्रसन्न हो कृपा करने वाले करूणानिधि भी हैं। उनके क्रोध को विसराने के लिए ही उन्हें मदिरा अर्थात सुरा चढ़ाया जाता है। देश-विदेश से आये श्रद्धालु प्रतिमा को साक्षात मदिरा पान करते देख अद्भुत आश्चर्य का अनुभव करते हैं। मदिरा मूर्ति द्वारा कैसे पी ली जाती है यह आज तक कोई ना जान सका। ब्रिटिश काल में अंग्रेजों ने उज्जैन के काल भैरव की प्रतिमा के इर्द गिर्द खुदाई करवाई और फिर प्रतिमा को बहुत सारा मदिरापान करवाया किन्तु वो शराब कहां गई इसका कोई निशान ना मिला। इसके बाद अमेरिका की एजेंसी नासा ने भी अपने तकनीकी ढंग से इस रहस्य को जानने की कोशिश की किन्तु नासा के वैज्ञानिक भी असफल रहे। श्री काल भैरव को मदिरा पान कराने लोग दूर दूर से आते हैं और भगवान का आशीर्वाद ले मनोकामनाओं को पूर्ती हेतु प्रार्थना करते हैं।
संरचना एवं इतिहास:
मंदिर के चारों और बनी परकाटों वाली लम्बी पत्थर की दीवार यह बताती है कि यह परमारकालीन मंदिर है। राजा भद्रसेन द्वारा इस मंदिर का निर्माण करवाया गया था। तत्पश्चात राजा जयसिंह ने मंदिर का पुनर्निर्माण कराया था। श्री काल भैरव मंदिर में श्री भैरव महाराज के आराध्य शिव के साथ पार्वती, विष्णु और गणेशजी की परमारकालीन मूर्तियां भी स्थापित है। इसके साथ ही मंदिर में मालवा शैली के सुन्दर चित्र भी अंकित है। मंदिर प्रांगण में एक मुख वाले भगवान दत्तात्रय भी स्थापित हैं जो कि दर्शनार्थियों को भारत की धार्मिक गाथा से परिचित करातें हैं।
कैसे पहुंचे?
श्री काल भैरव मंदिर भेरूगढ़ जेल रोड पर स्थित है। यहां आने के लिए सिटी बस उपलब्ध है। अधिकांश यात्री अपने निजी वाहनों से या फिर टैक्सी सेवाओं द्वारा यहां तक पहुंचते हैं। ऐसी मान्यता है कि सारे तीर्थों में जाने का फल भैरव के दर्शन के उपरांत ही प्राप्त होता है। ॐ श्री कलेश्वराय नमः। । 
,,,,,,,,,,,,,,,जय श्री महांकाल,,,,,,,,,,,,,,,,
Photo
Add a comment...

Post has attachment

Post has shared content
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded