Profile

Cover photo
AWGP Shantikunj Haridwar
Worked at Shantikunj
Attended AWGP
Lives in Shantikunj,Haridwar
2,004 followers|11,075,642 views
AboutPostsPhotosYouTube

Stream

Pinned
 
👉 जीवन देवता की साधना-आराधना (भाग 11) 18 Jan
🌹 त्रिविध प्रयोगों का संगम-समागम 🔴 जीवन एक सुव्यवस्थित तथ्य है। वह न तो अस्त-व्यस्त है और न कभी कुछ करने, कभी न करने जैसा मनमौजीपन। पशु-पक्षी तक एक नियमित प्रकृति व्यवस्था के अनुरूप जीवनयापन करते हैं। फिर मनुष्य तो सृष्टि का मुकुटमणि है। उसके ऊपर मात्र शर...
 ·  Translate
🌹 त्रिविध प्रयोगों का संगम-समागम 🔴 जीवन एक सुव्यवस्थित तथ्य है। वह न तो अस्त-व्यस्त है और न कभी कुछ करने, कभी न करने जैसा मनमौजीपन। पशु-पक्षी तक एक नियमित प्रकृति व्यवस्था के अनुरूप जीवनयापन करते हैं। फिर मनुष्य तो सृष्टि ...
1
Add a comment...
 
👉 गृहस्थ में ईश्वर प्राप्ति
🔵 एक बार एक राजा ने अपने मंत्री से पूछा कि “क्या गृहस्थ में रहकर भी ईश्वर को प्राप्त किया जा सकता है?” मंत्री ने उत्तर दिया- हाँ, श्रीमान् ऐसा हो सकता है। राजा ने पूछा कि यह किस प्रकार संभव है? मंत्री ने उत्तर दिया कि इसका ठीक ठीक उत्तर एक महात्मा जी दे सक...
 ·  Translate
🔵 एक बार एक राजा ने अपने मंत्री से पूछा कि “क्या गृहस्थ में रहकर भी ईश्वर को प्राप्त किया जा सकता है?” मंत्री ने उत्तर दिया- हाँ, श्रीमान् ऐसा हो सकता है। राजा ने पूछा कि यह किस प्रकार संभव है? मंत्री ने उत्तर दिया कि इसका ठी...
1
Add a comment...
 
!! 1926 से प्रज्ज्वलित अखण्ड दीपक गायत्री तीर्थ शांतिकुञ्ज हरिद्वार 17 Jan 2017 !!
 ·  Translate
5
1
Add a comment...
 
👉 प्रेरणादायक प्रसंग 18 Jan 2017

 ·  Translate
This blog has interesting and comprehensive articles, stories, quotations, Religion, Art of Living, Indian Culture, Yoga, Health & science
1
Add a comment...
 
👉 आज का सद्चिंतन 18 Jan 2017

 ·  Translate
This blog has interesting and comprehensive articles, stories, quotations, Religion, Art of Living, Indian Culture, Yoga, Health & science
1
Add a comment...
 
👉 मरने से डरना क्या?
🔵 राजा परीक्षित को भागवत सुनाते हुए जब शुकदेव जी को छै दिन बीत गये और सर्प के काटने से मृत्यु होने का एक दिन रह गया तब भी राजा का शोक और मृत्यु भय दूर न हुआ। कातर भाव से अपने मरने की घड़ी निकट आती देखकर वह क्षुब्ध हो रहा था। 🔴 शुकदेव जी ने परीक्षित को एक ...
 ·  Translate
🔵 राजा परीक्षित को भागवत सुनाते हुए जब शुकदेव जी को छै दिन बीत गये और सर्प के काटने से मृत्यु होने का एक दिन रह गया तब भी राजा का शोक और मृत्यु भय दूर न हुआ। कातर भाव से अपने मरने की घड़ी निकट आती देखकर वह क्षुब्ध हो रहा था।...
1
1
Add a comment...
 
!! गायत्री माता मंदिर गायत्री तीर्थ शांतिकुञ्ज हरिद्वार 17 Jan 2017 !!
 ·  Translate
7
1
Mitesh Panchal's profile photo
 
Jay gayatri maa
Add a comment...
Story
Tagline
गायत्री परिवार ब्लोग जीवन जीने कि कला के, संस्कृति के आदर्श सिद्धांतों के आधार पर परिवार, समाज, राष्ट्र युग निर्माण करने वाले व्यक्तियों का संघ है।
Introduction
गायत्री परिवार ब्लोग जीवन जीने कि कला के,  संस्कृति के आदर्श सिद्धांतों के आधार पर परिवार, समाज, राष्ट्र युग निर्माण करने वाले व्यक्तियों का संघ है।

इसमे आप आध्यत्मिक और व्यवहारिक कहानिया , आलेख और युग ऋषि पण्डित श्रीराम शर्मा आचार्य जी द्वारा लिखित मुख्य किताबो के अंशो से प्रेरणा पा सकते है।

युग निर्माण योजना का प्रधान उद्देश्य है - विचार क्रान्ति। मूढ़ता और रूढ़ियों से ग्रस्त अनुपयोगी विचारों का ही आज सर्वत्र प्राधान्य है। आवश्यकता इस बात की है कि (१) सत्य (२) प्रेम (३) न्याय पर आधारित विवेक और तर्क से प्रभावित हमारी विचार पद्धति हो। आदर्शों को प्रधानता दी जाए और उत्कृष्ट जीवन जीने की, समाज को अधिक सुखी बनाने के लिए अधिक त्याग, बलिदान करने की स्वस्थ प्रतियोगिता एवं प्रतिस्पर्धा चल पड़े। वैयक्तिक जीवन में शुचिता-पवित्रता, सच्चरित्रता, ममता, उदारता, सहकारिता आए। सामाजिक जीवन में एकता और समता की स्थापना हो।

इस संसार में एक राष्ट्र, एक धर्म, एक भाषा, एक आचार रहे; जाति और लिंग के आधार पर मनुष्य-मनुष्य के बीच कोई भेदभाव न रहे। हर व्यक्ति को योग्यता के अनुसार काम करना पड़े; आवश्यकतानुसार गुजारा मिले। धनी और निर्धन के बीच की खाई पूरी तरह पट जाए। न केवल मनुष्य मात्र को वरन् अन्य प्राणियों को भी न्याय का संरक्षण मिले। दूसरे के अधिकारों को तथा अपने कर्तव्यों को प्राथमिकता देने की प्रवृत्ति हर किसी में उगती रहे; सज्जनता और सहृदयता का वातावरण विकसित होता चला जाए, ऐसी परिस्थितियाँ उत्पन्न करने में युग निर्माण योजना प्राणपण से प्रयत्नशील  है।
Education
  • AWGP
Basic Information
Gender
Male
Work
Employment
  • Shantikunj
Places
Map of the places this user has livedMap of the places this user has livedMap of the places this user has lived
Currently
Shantikunj,Haridwar