Profile cover photo
Profile photo
रूपचन्द्र शास्त्री मयंक
9,499 followers
9,499 followers
About
Posts

Post has attachment
मंगलवार, 25 सितंबर 2018
दोहे "गुरुओं का ज्ञान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

मतलब के हैं अब गुरू, मतलब के ही शिष्य।
दोनों इसी जुगाड़ में, कैसे बने भविष्य।।

सम्बन्धों की आज तो, हालत बड़ी विचित्र।
नहीं रहे गुरु-शिष्य अब, पावन और पवित्र।।

साथ बैठ गुरु-शिष्य जब, छलकाते हों जाम।
नवयुग की इस पौध का, क्या होगा अंजाम।।

बाजारों में बिक रहा, अब गुरुओं का ज्ञान।
हर ऊँची दूकान का, फीका है पकवान।।

दौलत के दरबार में, पैसे के हैं रंग।।
प्रतिभाएँ कुण्ठित हुई, देख अनोखे ढंग।।
--
http://uchcharan.blogspot.com/2018/09/blog-post_25.html
Add a comment...

Post has attachment
दोहे "गुरुओं का ज्ञान" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
मतलब
के हैं अब गुरू, मतलब के ही शिष्य। दोनों
इसी जुगाड़ में, कैसे बने भविष्य।। सम्बन्धों
की आज तो, हालत बड़ी विचित्र। नहीं
रहे गुरु-शिष्य अब, पावन और पवित्र।। साथ
बैठ गुरु-शिष्य जब, छलकाते हों जाम। नवयुग
की इस पौध का, क्या होगा अंजाम।। बाजारों
...
Add a comment...

Post has attachment
Tuesday, September 25, 2018
"जीवित माता-पिता को, मत देना सन्ताप" (चर्चा अंक-3105)
मित्रों!
मंगलवार की चर्चा में आपका स्वागत है।
देखिए मेरी पसन्द के कुछ लिंक।
(डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
-0-
दोहे
"पितृपक्ष में कीजिए, वन्दन-पूजा-जाप"

उच्चारण
-0-
ग़ज़ल
" तेरी यादों का मंजर"
( राधा तिवारी "राधेगोपाल " )

राधे का संसार
-0-
बेटियों को समर्पित एक मुक्तक

मनोज अबोध
-0-
लघुकथा-
श्राद्ध का खाना

आपकी सहेली ज्योति देहलीवाल
-0-
सुप्रिय जज्बात

कविता "जीवन कलश" पर
purushottam kumar sinha
-0-
Daughters Day

मेरे कांधे पर जिस बेटी का सिर है वह है Shivani Billore बेटियों पर गर्व करना यह सारी बेटियां अब काम कर रही हैं मुझे गर्व है कि मेरी बड़ी बेटी शिवानी अगले दो-तीन दिनों में कंपनी की ओर से पुनः एक बार विदेश यात्रा पर होगी इस बार शिवानी जा रही है बेल्जियम के ब्रुसेल्स शहर में जो बेल्जियम की राजधानी है बीच में उसे उसे दुबई भी जाना था किंतु कंपनी की जो भी परिस्थिति रही हो शिवानी Ey में सीनियर एसोसिएट के पद पर पदस्थ है,,,
मिसफिट Misfit
-0-
किताबों की दुनिया -
196


नीरज
-0-
प्यास
तृष्णा न गई
प्यासा रहा मन भी
यह कैसी सजा

प्यासा है तन
मन भी तरसे है
जल के बिना


तृष्णा बढ़ती
बिना नियंत्रण के
चित अशांत
Akanksha पर Asha Saxena
-0-
मुक्त मुक्तक : 888 -
भगवान बिक रहा है

डॉ. हीरालाल प्रजापति का
'' कविता-विश्व ''
-0-
संदेश

हवाओं ने लहरायें,
ग़ुम नाम मनसूबे,
हाथों ने फिर तेरा नाम संवारा,
भूल चुकी थी,
इश्क का गलियारा,
धङकनो ने फिर तेरा नाम पुकारा...
गूंगि गुड़िया
"जिंदगी एक अहसास"
-0-
सुल्तान अहमद की ग़ज़लें

पहली बार पर
Santosh Chaturvedi
-0-
गर रूठ कर यूँ चल दिए....
नीना पॉल

मेरी धरोहर पर
yashoda Agrawal
-0-
कार्टून :-
जिन्न

Kajal Kumar's Cartoons
काजल कुमार के कार्टून
-0-
श्याम बिहारी श्यामल की गजल :
आंखों का तराजू बड़ा बेदर्द

शब्‍द श्‍यामल
-0-
मेघ- दूत :
बाल्थाज़ार की आश्चर्यजनक दोपहर :
गैब्रिएल गार्सिया मार्खेज़

समालोचन पर arun dev
-0-
श्रद्धांजलि डाo शमशेर सिंह बिष्ट

उलूक टाइम्स पर
सुशील कुमार जोशी
By रूपचन्द्र शास्त्री मयंक at September 25, 2018
--
http://charchamanch.blogspot.com/2018/09/3105.html
Add a comment...

Post has attachment
सोमवार, 24 सितंबर 2018
गीत "नीर पावन बनाओ करो आचमन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')

जो हैं कोमल-सरल उनको मेरा नमन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।

कुछ भी दुर्लभ नहीं आदमी के लिए,
मान-सम्मान है संयमी के लिए,
सींचना नेह से अपना प्यारा चमन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।

रास्ते में मिलेंगे बहुत पेंचो-खम,
साथ में आओ मिलकर बढ़ायें कदम,
नीर पावन बनाओ करो आचमन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।

पेड़ जो दर्प में थे अकड़ कर खड़े,
एक झोंके में वो धम्म से गिर पड़े,
लोच वालो का होता नही है दमन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।

सख्त चट्टान पल में दरकने लगी,
जल की धारा के संग में लुढ़कने लगी,
छोड़ देना पड़ा कंकड़ों को वतन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।

घास कोमल है लहरा रही शान से,
सबको देती सलामी बड़े मान से,
आँधी तूफान में भी सलामत है तन।
जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।।
--
http://uchcharan.blogspot.com/2018/09/blog-post_26.html
Add a comment...

Post has attachment
गीत "नीर पावन से आओ करे आचमन" (डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक')
जो हैं कोमल-सरल उनको मेरा नमन। जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।। कुछ भी दुर्लभ नहीं आदमी के लिए, मान-सम्मान है संयमी के लिए, सींचना नेह से अपना प्यारा चमन। जो घमण्डी हैं उनका ही होता पतन।। रास्ते में मिलेंगे बहुत पेंचो-खम, साथ में आओ मिलकर बढ़ायें कदम, नीर प...
Add a comment...

Post has attachment
अपने ब्लॉग का नाम शुद्ध कीजिए न..
गूँगी गुड़िया "ज़िन्दग़ी एक अहसास"
यह होगी सही सही वर्तनी
संदेश
संदेश
poetryanita.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
डॉ. शमशेर सिंह बिष्ट जी को भावभीनी श्रद्धांजलि।
Add a comment...

Post has attachment
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-09-2018) को <a href=<charchamanch.blogspot.in/" > "जीवित माता-पिता को, मत देना सन्ताप" (चर्चा अंक-3105) </a> पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
कार्टून :- जिन्न
कार्टून :- जिन्न
kajalkumarcartoons.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-09-2018) को <a href=<charchamanch.blogspot.in/" > "जीवित माता-पिता को, मत देना सन्ताप" (चर्चा अंक-3105) </a> पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
संदेश
संदेश
poetryanita.blogspot.com
Add a comment...

Post has attachment
आपकी इस प्रविष्टि् के लिंक की चर्चा कल मंगलवार (25-09-2018) को <a href=<charchamanch.blogspot.in/" > "जीवित माता-पिता को, मत देना सन्ताप" (चर्चा अंक-3105) </a> पर भी होगी।
--
चर्चा मंच पर पूरी पोस्ट नहीं दी जाती है बल्कि आपकी पोस्ट का लिंक या लिंक के साथ पोस्ट का महत्वपूर्ण अंश दिया जाता है।
जिससे कि पाठक उत्सुकता के साथ आपके ब्लॉग पर आपकी पूरी पोस्ट पढ़ने के लिए जाये।
--
हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
सादर...!
डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'
Add a comment...
Wait while more posts are being loaded