Profile

Cover photo
अजय कुमार झा
Worked at District and Sessions Judge Office , Delhi
Attended Central School Danapur Cantt
Lived in Krishna Nagar , Delhi
7,987 followers|1,213,877 views
AboutPostsCollectionsPhotosVideos

Stream

 
आते जाते खूबसूरत आवारा रास्तों पे कभी कभी ..इत्तेफाक से ......
#हुस्नपहाड़ोंका #incredibleindia  #hillroads
 ·  Translate
6
Harminder Singh's profile photo
 
यह तस्वीर बहुत कुछ बयान करती है..
 ·  Translate
Add a comment...
 
#‎खड़ीखबर‬ : आसाराम प्रकरण में मुख्य गवाह को गोली मारी गयी
बस अब ले दे के बाबा ही बचे हैं ...गोलियां बची हों एक आध ..तो ये केस भी निपटे ;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
2
Add a comment...
 

सुबह पांच बजे तडके ही निकल जाने का लाभ ये रहा की हम ग्यारह बजे तक चंडीगढ़ से आगे निकल कर शिमला की और बढ़ चुके थे | बच्चे अपनी मम्मी के साथ पिछली सीट पर बैठ कर तेज़ी से आसपास से निकलते शहरों , सड़कों, दुकानों को देखते हुए चले जा रहे थे | आगे हम और मित्र अरविन्द जी जो हमारे साथ ही आगे चालक की सीट पर बैठे थे उनके साथ विमर्श  चलता रहा | कभी उनके टूर ट्रेवेल्स ले अनुभव तो कभी सामने आ रहा योग दिवस , कभी राजनीति , कभी धर्म , कभी बीत रहा शहर |कार का पहिया घूमता रहा और घड़ी की सुई भी .............हम अब फिर भीड़ भाड से बाहर थे ......श्रीमती जी एकदम साफ़ सुथरी सड़कें देख कर कम से कम दो बार टोल टैक्स दिए जाने की वकालत कर चुकी थीं ..वैसे अब तक सडकें वाकई अच्छी थीं ...
 ·  Translate
चांदी की छत बहुत समय से कहीं  बाहर निकल पाने का अवसर आते हुए भी कहीं न कहीं कुछ न कुछ ऐसी वजह निकल ही आती थी की ठीक आखिरी वक्त पर भी वो स्थगित हो जाया करता था | पिताजी के फ़ौजी जीवन के कारण पहले ही पूरा बचपन यायावरी रहा सो दे...
2
Add a comment...
 
चांदी का आसमां.....#incredibleindia
 ·  Translate
5
Add a comment...
 
#‎खडीख़बर‬ :रपोटर ललित मोदी से : सर जी ये आजकल आप कर क्या रहे हो ?
देखो भाई : हम तो बस "फिरकी" ले रहा हूँ  ;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
2
Add a comment...
In his circles
468 people
Have him in circles
7,987 people
shaan dost's profile photo
Yugal Mehra's profile photo
hindihow's profile photo
lalan kumar's profile photo
VISHNU B ATTINGAL's profile photo
Pradeep Beedawat's profile photo
Pravin pravin's profile photo
anurajput singh's profile photo
Arpana Singh  Parashar's profile photo
 
फेसबुक पर लाईक टिकाते ही ..बेचारा लाईक नीला   पड़ जाता है
 ·  Translate
2
Add a comment...

अजय कुमार झा

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
बहुत अच्छे तुषार ..बहुत ही सरल और प्रभावी
 ·  Translate
पहली नज़र पहली धड़कन पहला जज़्बात पहला एहसास ज़िन्दगी में कितना ख़ास पहली दफ़ा पहला मौक़ा पहली कशिश पहला ख़याल ज़िन्दगी में कितना ख़ास पहला प्यार पहली माशूक पहला परिचय पहली बात ज़िन्दगी में कितना ख़ास पहला ख़त पहला कार्ड पहला फूल पहला उपहा...
3
Tushar Rastogi's profile photo
 
शुक्रिया अजय भाई
 ·  Translate
Add a comment...
 
#खड़ीखबर : डेंगू की रोकथाम के लिए जागरूकता जरूरी है
इस पर मच्छरों का कहना है की , उन्हें जागरूक होने में अभी थोड़ा समय और लगेगा

:) :) :) :)
 ·  Translate
3
1
Bikash Satpathy's profile photo
Add a comment...

अजय कुमार झा

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
बिलकुल अलग अंदाज़ में .....बिलकुल ही अलग दास्ताँ ........
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
अब बोटिंग हो जाए ..............
 ·  Translate
20
Add a comment...
अजय कुमार's Collections
Story
Tagline
अभी मुझमें कहीं बाकी है थोडी सी जिंदगी ....................................................
Introduction

यदि एक पंक्ति में कहूं तो , एक आम आदमी जिसकी कोशिश है कि इंसान बना जाए , शेष कुछ नहीं । पिताजी फ़ौज में थे और माता गृहणि , माता पिता की दूसरे नंबर की संतान , प्रारंभ से ही पिताजी के साथ उनके नियमित स्थानांतरण के कारण लगभग पूरे भारत में भ्रमण और केंद्रीय विद्यालयों में अध्य्यन । वक्त ने करवट लिया और शहरों की खाक छानते छानते , उस वक्त ग्राम्य जीवन की शुरूआत हुआ जब यकायक ही परिवार ने गांव की ओर प्रस्थान किया । यौवन और संघर्ष के दिन , कॉलेज और युनिवर्सटी के दिन , जो भी बीते वो ग्राम्य जीवन से ही जुडे रहे और मैं भी भीतर तक जुडा रहा कहीं गांव की मिट्टी , पोखर , पवन और सब कुछ से ।

ऐतिहासिल ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय के साथ प्रतिष्ठा स्नातक की शिक्षा के बाद , मित्रों के समूह के साथ ही वर्ष 1996 में दिल्ली की ओर प्रस्थान । लक्ष्य था खुद को साबित और स्थापित करना । पत्रकारिता में डिप्लोमा लेने के दौरान ही ,वर्ष 1998 में  सरकारी सेवा में नियुक्ति हो गई । संप्रति , दिल्ली की अधीनस्थ जिला न्यायालय में बतौर वरिष्ठ न्यायिक सहायक पदस्थापित हूं और साथ साथ ही विधि की शिक्षा भी जारी है ।

पढने लिखने का शौक कब हुआ नहीं जानता ठीक ठीक । विद्यालय में कभी मेधावी छात्र नहीं रहा , मगर बचपन में कॉमिक्स , लडकपन में विजय विकास , कर्नल रंजीत , गुलशन नंदा जैसे उपन्यासों के बाद , जहां शैक्षणिक पाठ्यक्रम ने अंग्रेजी साहित्य के करीब किया तो बाद के दिनों में हिंदी साहित्य दिले के भीतर तक बस गया । संपादक के नाम हज़ारों पत्र , दोस्तों को सैकडों चिट्ठियां लिखने की आदत ने आगे जागर लेख , कहानियां , कविताएं , व्यंग्य , और जाने क्या क्या कितना लिखवा , पढना और लिखना आदत से अब एक जुनून सा बन गए हैं , लगता है कि जिंदगी कम है और किताबें ज्यादा तो जिंदगी खत्म होने से पहले जितना पढूं , जितना लिखूं कम है । समय बदला और कलम कागज की जगह ये टकटक कंप्यूटर ने ले लिया , यात्रा बदस्तूर जारी है , बिना थके , बिना रुके ……………

Education
  • Central School Danapur Cantt
Basic Information
Gender
Male