Profile

Cover photo
अजय कुमार झा
Worked at District and Sessions Judge Office , Delhi
Attended Central School Danapur Cantt
Lived in Krishna Nagar , Delhi
8,091 followers|1,244,555 views
AboutPostsCollectionsPhotosVideos

Stream

 
#‎खडीखबर‬ :मोदी ने बिहार को कुछ भी नया नहीं दिया : नीतीश कुमार
"सफ़ेद भैंसें" मिलते ही सबसे पहले बिहार को दी जायेंगी रे बुड़बक : मोदी

;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :बिहार सरकार ने दिल्ली के लिए अपने चार पुलिस अफसर दिए थे
अब दिल्ली सरकार बिहार को अपने चार MLA देगी ......हाँ आप ठीक समझे वही वाले


पुलिस को कहा गया है की .....ले जाते समय उन्हें शौपिंग न कराई जाए

;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :राहुल जी , बिहार विधान सभा चुनाव के लिए कांग्रेस की क्या तैयारी है
राहुल गांधी : ................................सुमित संभाल लेगा :) :) :) :) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
1
Anurag Tiwari's profile photo
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :शिक्षकों ने काली पट्टी बाँध कर दिल्ली सरकार का विरोध किया
सरकार : हुन्ह्ह हम खुद टूट फूट कर अपने लिए सफ़ेद पट्टी ढूंढ रहे हैं
;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ : यदि भारत सरकार ने हम पर जंग थोपा तो परिणाम भयंकर होगा : पाक
क्या बताएं भईया , भारत सरकार ने हम पर भी जंग (नजीब) थोप रखा है : दिल्ली सरकार

;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
3
Add a comment...
 
कहीं न कहीं दो प्यासे दिलों की छुप के ,इक मुलाक़ात हुई है ,
गीली भीगी सी है छत सडकें , मुद्दतों बाद शहर में बरसात हुई है
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
क्यूँ हंगामा बरपा है हर और बरपा  , किसके साथ फरेब हुआ है ,
इतिहास से न सही कम से कम सड़क से दफा औरंगजेब हुआ है
 ·  Translate
2
Add a comment...
In his circles
468 people
Have him in circles
8,091 people
Pradeep Beedawat's profile photo
tsi hotels's profile photo
DHULESHWAR KHOKHRIYA's profile photo
Shankar Chandraker's profile photo
Gaming Print's profile photo
Shyam Skha's profile photo
lokesh gautam's profile photo
Apeksha Goel's profile photo
Prashant Singh's profile photo
 
#‎खडीखबर‬ :भारत पाकिस्तान समस्या का नया हल मिला
बशीर का कहना है :OLX पर पाकिस्तान को बेच कर श्रीलंका खरीद लेते हैं , क्रिकेट में हराने के काम आयेंगे
कुछ कीमत भी कुछ कीमती भी :) :) :) :)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :सोनिया जी , आखिर आप लालू और नीतीश की रैली में क्यूँ गईं थीं
सोनिया गांधी : why should ....boys have all the fun :) :) :) :)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ : मोदी ने रैली में लालू नीतीश से माँगा पच्चीस साल का हिसाब
लालू ने कहा : हमने जितना चारा खाया था , सब गोबर कर दिया
नीतीश : हमको जितना गोबर स्टॉक में मिला था सबके उपले बने दिए

जियाह्ह हो बिहार के लाला ......एक जीजा एक साला

;) ;) ;) ;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
स्याह रात अब छंटने लगी है ,भोर की पौ फटने लगी है ,
उठ आँखें खोल ज़िंदगी देख बाहर रौशनी बंटने लगी है ...
जिदंगी ..सुबह का पहला सलाम ..........सुप्रभात
 ·  Translate
1
Add a comment...
अजय कुमार's Collections
Story
Tagline
अभी मुझमें कहीं बाकी है थोडी सी जिंदगी ....................................................
Introduction

यदि एक पंक्ति में कहूं तो , एक आम आदमी जिसकी कोशिश है कि इंसान बना जाए , शेष कुछ नहीं । पिताजी फ़ौज में थे और माता गृहणि , माता पिता की दूसरे नंबर की संतान , प्रारंभ से ही पिताजी के साथ उनके नियमित स्थानांतरण के कारण लगभग पूरे भारत में भ्रमण और केंद्रीय विद्यालयों में अध्य्यन । वक्त ने करवट लिया और शहरों की खाक छानते छानते , उस वक्त ग्राम्य जीवन की शुरूआत हुआ जब यकायक ही परिवार ने गांव की ओर प्रस्थान किया । यौवन और संघर्ष के दिन , कॉलेज और युनिवर्सटी के दिन , जो भी बीते वो ग्राम्य जीवन से ही जुडे रहे और मैं भी भीतर तक जुडा रहा कहीं गांव की मिट्टी , पोखर , पवन और सब कुछ से ।

ऐतिहासिल ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय के साथ प्रतिष्ठा स्नातक की शिक्षा के बाद , मित्रों के समूह के साथ ही वर्ष 1996 में दिल्ली की ओर प्रस्थान । लक्ष्य था खुद को साबित और स्थापित करना । पत्रकारिता में डिप्लोमा लेने के दौरान ही ,वर्ष 1998 में  सरकारी सेवा में नियुक्ति हो गई । संप्रति , दिल्ली की अधीनस्थ जिला न्यायालय में बतौर वरिष्ठ न्यायिक सहायक पदस्थापित हूं और साथ साथ ही विधि की शिक्षा भी जारी है ।

पढने लिखने का शौक कब हुआ नहीं जानता ठीक ठीक । विद्यालय में कभी मेधावी छात्र नहीं रहा , मगर बचपन में कॉमिक्स , लडकपन में विजय विकास , कर्नल रंजीत , गुलशन नंदा जैसे उपन्यासों के बाद , जहां शैक्षणिक पाठ्यक्रम ने अंग्रेजी साहित्य के करीब किया तो बाद के दिनों में हिंदी साहित्य दिले के भीतर तक बस गया । संपादक के नाम हज़ारों पत्र , दोस्तों को सैकडों चिट्ठियां लिखने की आदत ने आगे जागर लेख , कहानियां , कविताएं , व्यंग्य , और जाने क्या क्या कितना लिखवा , पढना और लिखना आदत से अब एक जुनून सा बन गए हैं , लगता है कि जिंदगी कम है और किताबें ज्यादा तो जिंदगी खत्म होने से पहले जितना पढूं , जितना लिखूं कम है । समय बदला और कलम कागज की जगह ये टकटक कंप्यूटर ने ले लिया , यात्रा बदस्तूर जारी है , बिना थके , बिना रुके ……………

Education
  • Central School Danapur Cantt
Basic Information
Gender
Male