Profile

Cover photo
अजय कुमार झा
Worked at District and Sessions Judge Office , Delhi
Attended Central School Danapur Cantt
Lived in Krishna Nagar , Delhi
8,908 followers|1,365,650 views
AboutPostsCollectionsPhotosVideos

Stream

 
पढने लिखने भेजा बाबू , नेतागिरी में पड़ , दिमाग गयो बौराय
ल्यो "जवाहर" के छोरों ने ,पड़ोसी को पापा कह के नारा दियो लगाय..

जोगीरा सारारा जोगीरा  सारारा .........
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
खामोशियों का शोर बहुत गहरा ,बहुत तीखा होता है ,
चुप रह कर बोलने वाला "सैलाब" सरीखा होता है.....
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
एम् सी डी के सफाईकर्मियों की तनखा नहीं मिल पाने का जिम्मेदार वही फोन बाबू है जो आजकल टीवी पे फोन से ही सबकी तनखा पंखा नहीं तनखा बाँट रहा है ....
 ·  Translate
2
Dr. Krishna Pal Tripathi's profile photo
 
ठीक
Add a comment...

अजय कुमार झा

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
सबसे बडा सच यही  है  कि  किताबों की  अहमियत सभी को  नहीं  मालूम होती 
 ·  Translate
1
Add a comment...
 

‪#‎खरीखबर‬ : जल्दी ही राहुल संभालेंगे कांग्रेस की कमान 
बस ..................................एक बार ...बालिग हो जाएँ..
 ·  Translate
1
Hemant Kumar Chaurasia's profile photo
 
कृपया आप यह भी आश्वस्त करें कि आपके अनुसार उनके लिए बालिग होने की उम्र कितनी निश्चित है।तब तक धैर्य रखने को आतुर रह सकूँ।
 ·  Translate
Add a comment...
 
#‎खरीखोटी‬:नीतीश ने अफसरों से कहा कुछ भी करें , अपराध रोकें
चुलबुल पांडे को मुजफ्फरपुर और सिंघम को दरभंगा में पोस्टिंग की सिफारिश
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
‪#‎खरीखोटी‬: नया साल "मनाने" यूरोप जायेंगे राहुल गांधी 
सैंटा बैग में बचे हुए गिफ्ट सैकेंड हैण्ड खरीदना उनकी सेकेण्ड प्रायरिटी रहेगी : कांग्रेस
;) ;) ;) ;) 
 ·  Translate
2
Add a comment...
Have him in circles
8,908 people
kumar shubham's profile photo
Asif Shaikh's profile photo
Pioneer Computer's profile photo
Sumit Agarwal's profile photo
Jharkharia Praveen's profile photo
Sagar Lab's profile photo
swarna delhi's profile photo
vikram kumar's profile photo
Arun Gupta's profile photo
 
अबे कौन कितनी दफा ये सारी धाराएं दफाएँ दिमाग में अपनी झोंक गया
सुना आज किसी ओकील बाबू ने , राम जी पे ही मुकदमा ठोंक दिया ...

जय हो , राम राज से न्याय राज तक ...सब राज़ ही राज़ है प्यारे
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
सुनो, रुको, देखो, बस बहुत हो चुका , जो करो बस एक बार करो ,
सदियाँ बीत गईं खेलते दोस्ती दुश्मनी , ऊंची और पुख्ता बहुत दीवार करो...

"इधर देखना मना है " ये चस्पा कर देना उस तरफ से ;) ;) ;) ;) 
 ·  Translate
2
Add a comment...

अजय कुमार झा

commented on a post on Blogger.
Shared publicly  - 
 
उफ़  ये  ज़हरीला इश्क  भी न ...बहुत ही  गजब  और अलग  | बढ़िया ....
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
#खरीखोटी : राहुल मनाएंगे अपना नया साल यूरोप में
नया साल मनाने के खिलाफ मौलाना जी जारी किया फ़तवा 

हाय राम ;) ;) ;) ;) ये तो मसला हो गया ..अब क्या बौआ फतवा लांघ के जायेंगे  :) :) :) 
 ·  Translate
3
Add a comment...
 
#‎खरीखोटी‬: एल जी की बात न माने केंद्र सरकार : आप
 एल जी की माने नहीं , ए सी बी की सुने नहीं , एम् सी डी को देखे नहीं

अबे  तो क्या सिर्फ सैलरी बढाने के लिए ई छुपनछुपाई खेले थे क्या बे
 ·  Translate
2
Add a comment...
अजय कुमार's Collections
Story
Tagline
अभी मुझमें कहीं बाकी है थोडी सी जिंदगी ....................................................
Introduction

यदि एक पंक्ति में कहूं तो , एक आम आदमी जिसकी कोशिश है कि इंसान बना जाए , शेष कुछ नहीं । पिताजी फ़ौज में थे और माता गृहणि , माता पिता की दूसरे नंबर की संतान , प्रारंभ से ही पिताजी के साथ उनके नियमित स्थानांतरण के कारण लगभग पूरे भारत में भ्रमण और केंद्रीय विद्यालयों में अध्य्यन । वक्त ने करवट लिया और शहरों की खाक छानते छानते , उस वक्त ग्राम्य जीवन की शुरूआत हुआ जब यकायक ही परिवार ने गांव की ओर प्रस्थान किया । यौवन और संघर्ष के दिन , कॉलेज और युनिवर्सटी के दिन , जो भी बीते वो ग्राम्य जीवन से ही जुडे रहे और मैं भी भीतर तक जुडा रहा कहीं गांव की मिट्टी , पोखर , पवन और सब कुछ से ।

ऐतिहासिल ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय के साथ प्रतिष्ठा स्नातक की शिक्षा के बाद , मित्रों के समूह के साथ ही वर्ष 1996 में दिल्ली की ओर प्रस्थान । लक्ष्य था खुद को साबित और स्थापित करना । पत्रकारिता में डिप्लोमा लेने के दौरान ही ,वर्ष 1998 में  सरकारी सेवा में नियुक्ति हो गई । संप्रति , दिल्ली की अधीनस्थ जिला न्यायालय में बतौर वरिष्ठ न्यायिक सहायक पदस्थापित हूं और साथ साथ ही विधि की शिक्षा भी जारी है ।

पढने लिखने का शौक कब हुआ नहीं जानता ठीक ठीक । विद्यालय में कभी मेधावी छात्र नहीं रहा , मगर बचपन में कॉमिक्स , लडकपन में विजय विकास , कर्नल रंजीत , गुलशन नंदा जैसे उपन्यासों के बाद , जहां शैक्षणिक पाठ्यक्रम ने अंग्रेजी साहित्य के करीब किया तो बाद के दिनों में हिंदी साहित्य दिले के भीतर तक बस गया । संपादक के नाम हज़ारों पत्र , दोस्तों को सैकडों चिट्ठियां लिखने की आदत ने आगे जागर लेख , कहानियां , कविताएं , व्यंग्य , और जाने क्या क्या कितना लिखवा , पढना और लिखना आदत से अब एक जुनून सा बन गए हैं , लगता है कि जिंदगी कम है और किताबें ज्यादा तो जिंदगी खत्म होने से पहले जितना पढूं , जितना लिखूं कम है । समय बदला और कलम कागज की जगह ये टकटक कंप्यूटर ने ले लिया , यात्रा बदस्तूर जारी है , बिना थके , बिना रुके ……………

Collections अजय कुमार is following
View all
Education
  • Central School Danapur Cantt
Basic Information
Gender
Male