Profile

Cover photo
अजय कुमार झा
Worked at District and Sessions Judge Office , Delhi
Attended Central School Danapur Cantt
Lived in Krishna Nagar , Delhi
7,909 followers|1,180,935 views
AboutPostsCollectionsPhotosVideos

Stream

 
#‎खडीख़बर‬ :रपोटर ललित मोदी से : सर जी ये आजकल आप कर क्या रहे हो ?
देखो भाई : हम तो बस "फिरकी" ले रहा हूँ  ;) ;) ;) ;)
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ : प्रभु (सुरेश) के टवीट से अफसरों की नींद हराम
वाह , इसे कहते हैं राम राज , प्रभु खुद टवीट करके अफसरों की नींद हराम कर रहे हैं

प्रभु की लीला अपरमपार :) :) :)
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :सड़क से संसद तक हमलावर होगी कांग्रेस
यानी कुल डेढ़ पौने दो सो लोग इकट्ठे होकर हल्ला करेंगे

बाकी की स्थति "हमलावर" की नहीं "घबराकर" वाली है :) :) :) :)
 ·  Translate
2
Jaiprakash Purohit's profile photo
 
murkh and hatash congresi.
Add a comment...
 
जो सफ़र है ज़िंदगी तो फिर सफ़र में रहा करो ,
किसी वजह में रहा करो या खबर में रहा करो,
नज़र में रहा करो और खूब असर में रहा करो,
सिर्फ तुम्हें ही सुनने बैठा हूँ ,अक्सर कहा करो,...............
पिछले दिनों अचानक ही पहाड़ों में जाने की वजह निकल आयी और आनन् फानन में तय हुआ छ दिनों का ये सफ़र बहुत ही विस्मयकारी अनुभव वाला रहा , कल से ही ब्लॉग पोस्टों के माध्यम से आपको भी सुनाऊंगा और दिखाऊंगा ...नदी ..पहाड़ , बर्फ और और बादल , .....सेब नाशपाती, आलूबुखारे , खुमानी, पीच के खेत/पौधे ...प्राकृतिक सर्द और गर्म जल के अद्भुत स्रोत ....खतरनाक सर्पीली सड़कों का जाल ......मिलवाता हूँ पहाड़ों की दुनिया से ..एक मैदानी सैलानी की नज़र से ........जल्दी ही अपने ब्लॉग पर
 ·  Translate
1
Add a comment...
Have him in circles
7,909 people
Suraj Patil's profile photo
Arun Yadav's profile photo
ravi pratap singh's profile photo
Bhagwat Singh's profile photo
Harveer Ji's profile photo
Ashok Priyadarshi's profile photo
chandan kumar Maurya's profile photo
Karamvir Singh's profile photo
DHULESHWAR KHOKHRIYA's profile photo
 
अब बोटिंग हो जाए ..............
 ·  Translate
4
Add a comment...
 
#खडीख़बर : आम आदमी पार्टी ने फिर साधा राज्यपाल पर निशाना
बहुत जल्दी ही देश को दूसरा अभिनव बिंद्रा मिल सकता है ...निशानची लोग :) :)
 ·  Translate
3
Add a comment...
8
Sameer Lal's profile photo
 
jai ho
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ : बदतर होती जा रही है दिल्ली की आबो-हवा
फ़ौरन ठीक करो भाई इसे , अभी तो फ्री वाई फाई की घोषणा हुई है

पोल्युटेड वाई फाई हुंह :) :) :) :)
 ·  Translate
2
Add a comment...
 
#‎खडीखबर‬ :सी एम् , पी एम् , लड़ भिड़े ,बीच गवर्नर  जनाब
इतने बेसब्रे बेअदब भए , इक दूजे की मिट्टी करें खराब ............
 ·  Translate
1
Add a comment...
 
‪#‎खडीखबर‬ : देसी ठूंठ लोकतंत्र में, जो ढेर बना रे काबिल
अंगूठा टेक जिंदाबाद ,छोटी बड़ी ,डिग्री झेल रही है मुश्किल

नकली डिग्री का नकली लोकतंतर ,
या बेटा संसद या जन्तर मन्तर
Like   Comment   Share
 ·  Translate
2
Add a comment...
अजय कुमार's Collections
Story
Tagline
अभी मुझमें कहीं बाकी है थोडी सी जिंदगी ....................................................
Introduction

यदि एक पंक्ति में कहूं तो , एक आम आदमी जिसकी कोशिश है कि इंसान बना जाए , शेष कुछ नहीं । पिताजी फ़ौज में थे और माता गृहणि , माता पिता की दूसरे नंबर की संतान , प्रारंभ से ही पिताजी के साथ उनके नियमित स्थानांतरण के कारण लगभग पूरे भारत में भ्रमण और केंद्रीय विद्यालयों में अध्य्यन । वक्त ने करवट लिया और शहरों की खाक छानते छानते , उस वक्त ग्राम्य जीवन की शुरूआत हुआ जब यकायक ही परिवार ने गांव की ओर प्रस्थान किया । यौवन और संघर्ष के दिन , कॉलेज और युनिवर्सटी के दिन , जो भी बीते वो ग्राम्य जीवन से ही जुडे रहे और मैं भी भीतर तक जुडा रहा कहीं गांव की मिट्टी , पोखर , पवन और सब कुछ से ।

ऐतिहासिल ललित नारायण मिथिला विश्वविद्यालय से अंग्रेजी विषय के साथ प्रतिष्ठा स्नातक की शिक्षा के बाद , मित्रों के समूह के साथ ही वर्ष 1996 में दिल्ली की ओर प्रस्थान । लक्ष्य था खुद को साबित और स्थापित करना । पत्रकारिता में डिप्लोमा लेने के दौरान ही ,वर्ष 1998 में  सरकारी सेवा में नियुक्ति हो गई । संप्रति , दिल्ली की अधीनस्थ जिला न्यायालय में बतौर वरिष्ठ न्यायिक सहायक पदस्थापित हूं और साथ साथ ही विधि की शिक्षा भी जारी है ।

पढने लिखने का शौक कब हुआ नहीं जानता ठीक ठीक । विद्यालय में कभी मेधावी छात्र नहीं रहा , मगर बचपन में कॉमिक्स , लडकपन में विजय विकास , कर्नल रंजीत , गुलशन नंदा जैसे उपन्यासों के बाद , जहां शैक्षणिक पाठ्यक्रम ने अंग्रेजी साहित्य के करीब किया तो बाद के दिनों में हिंदी साहित्य दिले के भीतर तक बस गया । संपादक के नाम हज़ारों पत्र , दोस्तों को सैकडों चिट्ठियां लिखने की आदत ने आगे जागर लेख , कहानियां , कविताएं , व्यंग्य , और जाने क्या क्या कितना लिखवा , पढना और लिखना आदत से अब एक जुनून सा बन गए हैं , लगता है कि जिंदगी कम है और किताबें ज्यादा तो जिंदगी खत्म होने से पहले जितना पढूं , जितना लिखूं कम है । समय बदला और कलम कागज की जगह ये टकटक कंप्यूटर ने ले लिया , यात्रा बदस्तूर जारी है , बिना थके , बिना रुके ……………

Education
  • Central School Danapur Cantt
Basic Information
Gender
Male